अब ट्रेन में मिलेगा हवाई जहाज के सफर का अहसास, 160 kmph की रफ्तार में दिल्ली से पहुंचेंगे मेरठ

भारतीय रेलवे से अब आपका सफर और भी तेज होने वाला है। रेलवे ने सफर को और भी सुविधाजनक बनाने के लिए देश के पहले रीजनल रैपिड ट्रांसपोर्ट सिस्टम, यानी आरआरटीएस ट्रेन का खुलासा किया है। आरआरटीएस ट्रेन यात्रियों को एक अच्छा यात्रा अनुभव प्रदान करने के लिए बिलकुल नई तरह से डिजाइन की गई ट्रेन है। ट्रेन के निर्माण का पहला चरण 2021 में शुरू हुआ था और अब इस साल के अंत तक इसके परीक्षण चरण को बंद किया जाएगा।

अब ट्रेन में मिलेगा हवाई जहाज के सफर का अहसास, 160 kmph की रफ्तार में दिल्ली से पहुंचेंगे मेरठ

वाई-फाई की होगी सुविधा

आरआरटीएस ट्रेन में 6 कोच होंगे। जरूरत पड़ने पर इन्हें 9 कोच तक बढ़ाया जा सकता है। इन छह कोचों में से एक प्रीमियम यात्री कोच होगा, जो यात्रियों को प्रीमियम अनुभव प्रदान करने के लिए पूरी तरह से समर्पित होगा। इस प्रीमियम कोच में यात्रियों के लिए वाई-फाई जैसी विभिन्न सुविधाएं उपलब्ध होंगी।

अब ट्रेन में मिलेगा हवाई जहाज के सफर का अहसास, 160 kmph की रफ्तार में दिल्ली से पहुंचेंगे मेरठ

हवाई जगह के जैसा होगा सफर

आरआरटीएस ट्रेन के छह कोच को मिलाकर कुल 407 सीटें होंगी, वहीं इस ट्रेन की एक बार में कुल 1,500 यात्रियों को ले जाने की क्षमता होगी। खास बात यह है कि इस ट्रेन में आपको विमान के जैसा सफर करने का अनुभव मिलेगा। आरआरटीएस ट्रेन का इंटीरियर डिजाइन और सीटें यात्री विमान के जैसी दी गई हैं, जो यात्रियों को पूरा आराम प्रदान करेंगी।

अब ट्रेन में मिलेगा हवाई जहाज के सफर का अहसास, 160 kmph की रफ्तार में दिल्ली से पहुंचेंगे मेरठ

160 किमी/घंटा की रफ्तार से दौड़ेगी ट्रेन

आरआरटीएस ट्रेन के लिए रेलवे विशेष ट्रैक नेटवर्क तैयार कर रही है जिसपर यह ट्रेन 100 किमी/घंटा से 160 किमी/घंटा की रफ्तार पर दौड़ने में सक्षम होगी। वहीं मेट्रो रेल की तुलना में यह तीन गुना अधिक रफ्तार से सफर करेगी।

अब ट्रेन में मिलेगा हवाई जहाज के सफर का अहसास, 160 kmph की रफ्तार में दिल्ली से पहुंचेंगे मेरठ

जानकारी के अनुसार, आरआरटीएस की पहली ट्रेन मार्च 2023 में शुरू होगी। यह ट्रेन सबसे पहले दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ कॉरिडोर के 82 किलोमीटर लंबे रेल ट्रैक पर चलाई जाएगी। देश की राजधानी दिल्ली में यह सराय काले खां मेट्रो स्टेशन होते हुए 17 किलोमीटर लंबे नेटवर्क को कवर करेगी।

अब ट्रेन में मिलेगा हवाई जहाज के सफर का अहसास, 160 kmph की रफ्तार में दिल्ली से पहुंचेंगे मेरठ

आरआरटीएस ट्रेन के लिए जमीन के अंदर भी कॉरिडोर बनाया जा रहा है। इस ट्रेन के लिए 12 किलोमीटर का अंडरग्राउंड कॉरिडोर बनाया जा रहा है, जहां 4 किलोमीटर का अंडरग्राउंड ट्रैक दिल्ली में और 8 किलोमीटर का गाजियाबाद और मेरठ में होगा।

अब ट्रेन में मिलेगा हवाई जहाज के सफर का अहसास, 160 kmph की रफ्तार में दिल्ली से पहुंचेंगे मेरठ

कवच सिस्टम से होगी लैस

बता दें कि नई आरआरटीएस ट्रेन रेलवे द्वारा हाल ही में लॉन्च की गई कवच तकनीक से लैस होगी। कवच एक एंटी कोलिजन डिवाइस नेटवर्क है, जो कि रेडियो कम्युनिकेशन, माइक्रोप्रोसेसर, ग्लोबर पोजिशनिंग सिस्टम तकनीक पर आधारित है। इस तकनीक की मदद से उम्मीद की जा रही है कि रेलवे 'शून्य दुर्घटना' के लक्ष्य को प्राप्त करने में सफल होगा।

अब ट्रेन में मिलेगा हवाई जहाज के सफर का अहसास, 160 kmph की रफ्तार में दिल्ली से पहुंचेंगे मेरठ

जानकारी के अनुसार, 'कवच' सिस्टम से लैस दो ट्रेनें आपस में टकराव की स्थिति का आकलन करते हुए ट्रेन में ऑटोमैटिक ब्रेक लगा देती हैं। इससे ट्रेनें आपस में टकराने से बच जाती हैं। कवच SIL4 प्रमाणित है जिसका मतलब यह है कि 10,000 सालों में इस तकनीक से एक गलती होने की संभावना है।

Most Read Articles

Hindi
English summary
First rrts train unveiled three times faster than metro details
Story first published: Wednesday, March 16, 2022, 15:33 [IST]
 
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X