India
YouTube

इलेक्ट्रिक ऑटोरिक्शा की बिक्री डीजल ऑटोरिक्शा से निकली आगे, जानें कितनी हुई बिक्री

कोरोना महामारी के चलते पिछले दो साल से मंदी में चल रहे ऑटोमोबाइल बाजार में अब रौनक लौटने लगी है। अब बाजार में कई तरह के बदलाव देखने को मिल रहे हैं। ईंधन से चलने वाले वाहनों के साथ-साथ बैटरी से चलने वाले इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री में तेजी देखी गई है। पिछले महीने की बिक्री की बात करें तो तिपहिया वाहन सेगमेंट में इलेक्ट्रिक वाहन ने पेट्रोल-डीजल से चलने वाले वाहनों को पीछे छोड़ दिया है।

इलेक्ट्रिक ऑटोरिक्शा की बिक्री डीजल ऑटोरिक्शा से निकली आगे, जानें कितनी हुई बिक्री

मई 2022 में, इलेक्ट्रिक तिपहिया वाहन सेगमेंट में 21,911 यूनिट्स की बिक्री हुई, जबकि ईंधन से चलने वाले तिपहिया वाहनों की 19,597 यूनिट्स बिकी। इलेक्ट्रिक तिपहिया वाहनों की बाजार हिस्सेदारी भी 45 प्रतिशत से बढ़कर 53 प्रतिशत हो गई। यह आंकड़े ऐसे समय में आए हैं जब देश में व्यापारिक गतिविधियों में तेजी आई है और यातायात अपने सामान्य स्तर पर पहुंच गया है।

इलेक्ट्रिक ऑटोरिक्शा की बिक्री डीजल ऑटोरिक्शा से निकली आगे, जानें कितनी हुई बिक्री

बताया जाता है कि इलेक्ट्रिक तिपहिया वाहनों की बिक्री अचानक बढ़ने की वजह पिछले कुछ महीनों में ईंधन की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि है। इसके अलावा, सरकार कई ऐसी योजनाएं चला रही हैं जिससे लोग इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने के लिए प्रेरित हो रहे हैं। आंकड़ों को देखें तो मई 2022 में बिकने वाले तिपहिया वाहनों में 47 प्रतिशत इलेक्ट्रिक, 27 प्रतिशत सीएनजी और बाकि पेट्रोल और डीजल से चलने वाले वाहन रहे।

इलेक्ट्रिक ऑटोरिक्शा की बिक्री डीजल ऑटोरिक्शा से निकली आगे, जानें कितनी हुई बिक्री

रिपोर्ट के अनुसार, ईंधन की कीमत बढ़ने से अब एक डीजल ऑटो को चलाने का खर्च 40,000 से 50,000 सालाना बढ़ गया है। इसके अलावा, वाहनो की कीमत बढ़ने से ईएमआई अब 6-7 प्रतिशत महंगा हो गया है। देखा जाए तो, इलेक्ट्रिक तिपहिया वाहनों की मांग सबसे ज्यादा ई-कॉमर्स, फर्स्ट और लास्ट माइल कनेक्टिविटी, कार्गो, वेस्ट मैनेजमेंट और फ्रेट लोडर जैसे क्षेत्रों में बढ़ी है।

इलेक्ट्रिक ऑटोरिक्शा की बिक्री डीजल ऑटोरिक्शा से निकली आगे, जानें कितनी हुई बिक्री

इसके अलावा चलाने की कम लागत के चलते पैसेंजर थ्री-व्हीलर क्षेत्र में भी लोगों का रुझान इलेक्ट्रिक वाहनों की तरफ बढ़ रहा है। इलेक्ट्रिक तिपहिया वाहनों की मांग को देखते हुए, कई वाहन निर्माता इस दौड़ में कूद पड़े हैं। जबकि पहले से स्थापित कंपनियां अब अपने वाहनों को इलेक्ट्रिक मॉडल में बदल रही हैं।

इलेक्ट्रिक ऑटोरिक्शा की बिक्री डीजल ऑटोरिक्शा से निकली आगे, जानें कितनी हुई बिक्री

भारतीय बाजार में इलेक्ट्रिक तिपहिया वाहनों की बड़ी कंपनियों में ओमेगा सेकी मोबिलिटी (OSM), पियाजियो इलेक्ट्रिक, और महिंद्रा इलेक्ट्रिक शामिल हैं जो बाजार में कई तरह के कार्गो और पैसेंजर वाहनों की पेशकश कर रही हैं।

इलेक्ट्रिक ऑटोरिक्शा की बिक्री डीजल ऑटोरिक्शा से निकली आगे, जानें कितनी हुई बिक्री

पियाजियो ने Ape e-City और Ape e-Xtra FX रेंज के साथ इलेक्ट्रिक कार्गो सेगमेंट में प्रवेश किया। पियाजियो, वर्तमान में तिपहिया क्षेत्र में दूसरी सबसे बड़ी वाहन निर्माता कंपनी है, जो कुल पांच इलेक्ट्रिक मॉडल पेश करती है। बजाज ऑटो भी अपना ई-रिक्शा लॉन्च करने के लिए तैयार है जो फुल चार्जपर 120 किमी की रेंज की पेशकश करेगी। महिंद्रा इलेक्ट्रिक थ्री-व्हीलर स्पेस में अल्फा मिनी, ट्रेओ जोर और ट्रेओ के साथ अग्रणी निर्माता है।

इलेक्ट्रिक ऑटोरिक्शा की बिक्री डीजल ऑटोरिक्शा से निकली आगे, जानें कितनी हुई बिक्री

पियाजियो, बजाज और महिंद्रा की तरह इस सेगमेंट में नई कंपनियां भी उतर गई हैं। अतुल ऑटो पैसेंजर और कार्गो व्हीकल्स सेगमेंट में थ्री व्हीलर्स की एक विशाल रेंज पेश करती है, जबकि लोहिया ऑटो भारत में कार्गो और पैसेंजर सेगमेंट में इलेक्ट्रिक थ्री व्हीलर्स की अच्छी रेंज पेश करता है।

Most Read Articles

Hindi
English summary
Electric three wheeler sales beats petrol diesel vehicles details
Story first published: Saturday, June 11, 2022, 17:05 [IST]
 
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X