India
YouTube

ओला इलेक्ट्रिक ने सेल्फ ड्राइविंग वाहन तकनीक का किया प्रदर्शन, नए तरह की बैटरी का शुरू करेगी उत्पादन

भारतीय इलेक्ट्रिक वाहन निर्माता ओला इलेक्ट्रिक (Ola Electric) ने अपनी आगामी सेल्फ ड्राइविंग (Self Driving) इलेक्ट्रिक वाहन तकनीक का प्रदर्शन किया और साथ ही कंपनी की भविष्य की योजनाओं (Future Plans) के बारे में अधिक जानकारी का खुलासा किया। इस साल की शुरुआत में ओला इलेक्ट्रिक ने खुलासा किया था कि वह ऑटोनॉमस व्हीकल टेक्नोलॉजी (Autonomous Vehicle Technology) पर काम कर रही है और आखिरकार अब कंपनी ने दुनिया के सामने अपनी नई तकनीक की झलक दिखा दी है।

ओला इलेक्ट्रिक ने सेल्फ ड्राइविंग वाहन तकनीक का किया प्रदर्शन, नए तरह की बैटरी का शुरू करेगी उत्पादन

ओला इलेक्ट्रिक के प्रोटोटाइप सेल्फ ड्राइविंग वाहन में 3 लाइडार सेंसर, एक जीपीएस सेंसर और ऑब्जेक्ट डिटेक्शन के लिए एक कैमरा दिया गया है। ओला इलेक्ट्रिक द्वारा प्रोटोटाइप वाहन में दिखाए गए सेल्फ ड्राइविंग तकनीक में इमरजेंसी ब्रेक असिस्टेंस, ऑटो ड्राइविंग, दुर्घटना से बचाव, ऑटोमैटिक ब्रेकिंग और ऑटो स्पीड कंट्रोल शामिल थे।

ओला इलेक्ट्रिक ने सेल्फ ड्राइविंग वाहन तकनीक का किया प्रदर्शन, नए तरह की बैटरी का शुरू करेगी उत्पादन

इलेक्ट्रिक वाहन निर्माता ने कंपनी के भविष्य और बैटरी तकनीक के बारे में भी कई खुलासे किये। ओला ने कहा कि वह अपनी बैटरी खुद बनाने पर विचार कर रही है। कंपनी के सीईओ भाविश अग्रवाल ने कहा कि ओला बैटरी सेल निर्माण पर विचार कर रही है और जल्द ही 50GWh तक की क्षमता के साथ अपनी खुद की सेल निर्माण सुविधा स्थापित करने का काम शुरू करेगी।

ओला इलेक्ट्रिक ने सेल्फ ड्राइविंग वाहन तकनीक का किया प्रदर्शन, नए तरह की बैटरी का शुरू करेगी उत्पादन

ओला वर्तमान में दक्षिण कोरिया (South Korea) से आयातित लिथियम-आयन सेल का उपयोग करती है। एलजी केम (LG Chem) इन सेल का निर्माण करती है और प्रत्येक बैटरी पैक में वर्तमान में कुल 224 सेल (प्रत्येक तरफ 112) हैं।

ओला इलेक्ट्रिक ने सेल्फ ड्राइविंग वाहन तकनीक का किया प्रदर्शन, नए तरह की बैटरी का शुरू करेगी उत्पादन

बैटरी पैक में उपयोग किए जाने वाले हर सेल का वजन 67 ग्राम है और इसमें निकल मैंगनीज कोबाल्ट (एनएमसी) रसायन का उपयोग किया गया है। एनएमसी कोशिकाओं में ज्यादा ऊर्जा का संग्रहण करने की शक्ति होती है जिसने उन्हें इलेक्ट्रिक वाहनों में उपयोग के लिए काफी लोकप्रिय बना दिया है। लिथियम फॉस्फेट (LFP) बैटरियां अपने लंबे जीवन चक्र के लिए जानी जाती हैं और दुनिया भर में इलेक्ट्रिक वाहनों में उपयोग के लिए एक अधिक लोकप्रिय विकल्प बन रही हैं। ओला ने कहा है कि वह कम पावर वाले वेरिएंट के लिए एलएफपी सेल पर विचार करेगी।

ओला इलेक्ट्रिक ने सेल्फ ड्राइविंग वाहन तकनीक का किया प्रदर्शन, नए तरह की बैटरी का शुरू करेगी उत्पादन

ओला इलेक्ट्रिक बैटरी पैक में सेल लगाने के लिए थर्मल इंटरफेस सामग्री आधारित प्लास्टिक का उपयोग करती है। यह थर्मल इंटरफेस सामग्री कुशल थर्मल प्रबंधन सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। थर्मल इंटरफेस सामग्री आधारित प्लास्टिक दो या दो से अधिक ठोस सतहों के बीच गर्मी स्थानांतरित करता है और बैटरी के चार्जिंग और डिस्चार्जिंग से निकलने वाली गर्मी को अवशोषित करने में मदद करता है।

ओला इलेक्ट्रिक ने सेल्फ ड्राइविंग वाहन तकनीक का किया प्रदर्शन, नए तरह की बैटरी का शुरू करेगी उत्पादन

ओला इलेक्ट्रिक ने यह भी पुष्टि की कि मूव ओएस 2, ऑपरेटिंग सिस्टम जो अपने एस1 प्रो स्कूटर में डिजिटल डिस्प्ले को नियंत्रित करता है और इलेक्ट्रिक वाहन पर कई सुविधाओं को सक्षम करने में मदद करता है, का अभी परीक्षण किया जा रहा है। मूव ओएस 2 जल्द ही अपडेट के जरिए ग्राहक के वाहनों पर सक्रिय होगा।

ओला इलेक्ट्रिक ने सेल्फ ड्राइविंग वाहन तकनीक का किया प्रदर्शन, नए तरह की बैटरी का शुरू करेगी उत्पादन

ओला इलेक्ट्रिक के सीईओ भाविश अग्रवाल ने यह भी खुलासा किया कि ईवी निर्माता इस साल के अंत में ओला एस 1 स्कूटर को भारतीय बाजार में फिर से पेश करेगा। ओला इलेक्ट्रिक के स्कूटर लाइनअप में S1 को कम कीमत वाले वेरिएंट के रूप में फिर से पेश किया जाएगा। इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर निर्माता ने यह भी पुष्टि की कि वह इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल सहित नए उत्पादों पर काम कर रहा है।

Most Read Articles

Hindi
English summary
Ola electric reveals autonomous vehicle tech and battery plans details
 
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X