रॉयल एनफील्ड ड्राइ वॉश तकनीक का करेगी इस्तेमाल, चेन्नई में 18 लाख लीटर पानी की होगी बचत

चेन्नई के लोग गंभीर जल संकट का सामना कर रहे हैं। यहां जल संकट को कम करने के लिए एक करोड़ों लीटर पानी वेल्लोर से मंगाया जा रहा है। क्योंकि चेन्नई को पानी की सप्लाई करने वाली चार प्रमुख झीलें सूख चुकी है।

चेन्नई जल संकट पर रॉयल एनफील्ड का बड़ा फैसला, ड्राइ वॉश तकनीक से की जाएगी धुलाई

शहर में जल भंडारण बढ़ाने के लिए जल इकाइयों की मरम्मत और उन्हें मजबूत करने का काम किया जा रहा है। जल संकट की वजह से शहर की लगभग 40 लाख से ज्यादा आबादी के लिए केवल सरकारी टैंकर बची है।

चेन्नई जल संकट पर रॉयल एनफील्ड का बड़ा फैसला, ड्राइ वॉश तकनीक से की जाएगी धुलाई

अगर आकड़े को देखे तो चेन्नई शहर को हर महीने 800 मिलियन लीटर पानी की जरूरत होती है। लेकिन चेन्नई जल बोर्ड सिर्फ 525 मिलियन लीटर पानी का ही आपूर्ति कर पाता है। ऐसे में चेन्नई जल संकट को लेकर मोटरसाइकल निर्माता कंंपनी रॉयल एन्फील्ड सामने आई है।

चेन्नई जल संकट पर रॉयल एनफील्ड का बड़ा फैसला, ड्राइ वॉश तकनीक से की जाएगी धुलाई

दरअसल रॉयल एनफील्ड मोटरसाइकल को साफ करने में काफी मात्रा पानी बर्बाद हो जाता है। जिसे लेकर कंपनी ने यह घोषणा की है कि उनके चेन्नई स्थित 20 सर्विस स्टेशनों पर से ड्राइ वॉश तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा। जिससे हर महीने लगभग 18 लाख लीटर पानी बचाने में मदद मिलेगी।

Most Read: हेलमेट ना पहनने वालों को मत पकड़े पुलिस, मुख्यमंत्री फडणवीस ने दिया आदेश

चेन्नई जल संकट पर रॉयल एनफील्ड का बड़ा फैसला, ड्राइ वॉश तकनीक से की जाएगी धुलाई

रॉयल एनफील्ड के बिजनेस हेड श्री शाजी कोशी ने इस योजना पर बात करते हुए कहा, "रॉयल एनफील्ड की यह पहल हमारे पर्यावरण को सुरक्षित और कुशल बनाने का एक प्रयास है। चेन्नई अभी भयंकर जल संकट से गुजर रहा है। इसमें हम अपनी भागीदारी देकर सभी चेन्नई वासियों की मदद करना चाहते है। हमारे सभी पहल ड्राइवॉस और पेपरलेस सर्विस को पर्यावरण सुरक्षा के लिए तैयार किया गया है।"

चेन्नई जल संकट पर रॉयल एनफील्ड का बड़ा फैसला, ड्राइ वॉश तकनीक से की जाएगी धुलाई

इस तकनीक से वॉश क्वालिटी से समझौता किए बिना पानी की खपत को कम किया जा सकता है और साथ ही इससे सर्विसिंग का समय भी कम लगता है। हमने पानी की कमी कारण चेन्नई में इस पहल को शुरू किया है और निकट भविष्य में तमिलनाडु के अन्य शहरों में भी ले जाने की योजना बना रहे हैं।

चेन्नई जल संकट पर रॉयल एनफील्ड का बड़ा फैसला, ड्राइ वॉश तकनीक से की जाएगी धुलाई

ड्राई वॉश तकनीक पानी की तुलनात्मक रूप से कम मात्रा का उपयोग करता है और इससे सफाई की गुणवत्ता में भी फर्क नहीं आता है। ड्रॉई वॉश तकनीक भी मोटरसाइकल को उतना ही साफ करती है, जितना पानी से होता है। लेकिन इसमें पानी की खपत कम होती है।

Most Read: इस किसान ने ट्रैक्टर में खटिया लगाकर बनाया ऐसा जुगाड़, आनंद महिंद्रा भी करने लगे तारीफ

चेन्नई जल संकट पर रॉयल एनफील्ड का बड़ा फैसला, ड्राइ वॉश तकनीक से की जाएगी धुलाई

रॉयल एनफील्ड भारत में सबसे पुराना मोटरसाइकिल ब्रांड है, और इसने अपने आधुनिक क्लासिक मोटरसाइकिलों के साथ भारत में मध्यम आकार के मोटरसाइकिल का भी निर्माण किया है।कंपनी द्वारा बनाई गई मोटरसाइकलों को शान की सवारी कहा जाता है। अभी हाल ही में रॉयल एनफील्ड के नई लॉन्च में इंटरसेप्टर 650 और कॉन्टिनेंटल जीटी 650, क्लासिक, थंडरबर्ड और हिमालयन 410 शामिल हैं। रॉयल एनफील्ड के पास पूरे देश में 900 से अधिक सर्विस नेटवर्क 600 से ज्यादा शहरों में उपलब्ध है।

चेन्नई जल संकट पर रॉयल एनफील्ड का बड़ा फैसला, ड्राइ वॉश तकनीक से की जाएगी धुलाई

रॉयल एनफील्ड के बारे में ड्राइवस्पार्क के विचार

ड्राई वॉश सिस्टम को अपनाना रॉयल एनफील्ड की शानदार पहल है। यह एक स्मार्ट पहल है, जो निर्माता अपने सर्विस स्टेशनों में जोड़ सकते हैं। रॉयल एनफील्ड का यह कदम बतलाता है कि वे अपने ग्राहकों की मोटरसाइकिलों के साथ उनकी और पर्यावरण की भी परवाह करते हैं। हमें उम्मीद है कि वे देश भर में ड्राई वॉश तकनीक को अपनाएंगे और पर्यावरण सुरक्षा में इसी तरह आगे भी अपनी भागीदारी निभाते रहेंगे।

Most Read Articles

Hindi
English summary
Royal Enfield Adopts Dry Wash System , Saves Chennai 18 Lakh Litres Of Water. Read in Hind
 
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Drivespark sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Drivespark website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more