जानिए क्या है सड़क पर खीचें गए इस Yellow Box का राज और क्या है रोड की पीली लाइनों का मतलब?

Written By:

बैंगलोर की सड़कों पर यात्रा करते हुए, आप एक बड़े मार्ग इन पीले चिह्नों को देख सकते हैं। दरअसल गार्डन सिटी के पास पुलिस ने यह घेरा ट्रैफिक जाम से निपटने के लिए एक प्रयोग के तौर पर इस्तेमाल किया है। इसके इस शहर के कई मुख्य चौराहों पर पीले बक्से खड़े हो गए हैं।

To Follow DriveSpark On Facebook, Click The Like Button
जानिए क्या है सड़क पर खीचें गए इस Yellow Boxes का राज और क्या है सिंगल, डबल व मेट्रो की पीली लाइनों का राज?

खबरों के मुताबिक इन बक्सो को अनदेखा करना आपके बटुए के लिए खतरनाक हो सकता है और भारत के इस आईटी हब में इन बॉक्सों को नजरंदाज करने पर आपसे यातायात पुलिस पेनाल्टी वसूल सकती है। लेकिन अब आप सोच रहे होगें कि यह पीला बॉक्स क्या है और इसे कैसे देश के और पांच शहरों में लागू करवाया जा सकता है तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। क्योंकि आज हम आपको इसके बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं।

जानिए क्या है सड़क पर खीचें गए इस Yellow Boxes का राज और क्या है सिंगल, डबल व मेट्रो की पीली लाइनों का राज?

'येलो बॉक्स जंक्शंस' को पहली बार 1967 में यूनाइटेड किंगडम में पेश किया गया था। लंदन में एक सफल परीक्षण के बाद, ट्रैफिक बस्टर जल्द ही यूके की सड़कों पर यह हमेशा देखा जाने लगा। तो सवाल है कि अगर आप इसे अपने शहर में सड़क पर देखते हैं तो आपको क्या करना चाहिए।

जानिए क्या है सड़क पर खीचें गए इस Yellow Boxes का राज और क्या है सिंगल, डबल व मेट्रो की पीली लाइनों का राज?

अगर आप आगे निकलते हैं तो आप येलो बॉक्स जंक्शन में प्रवेश कर सकते हैं। हालांकि, यह सुनिश्चित करें कि आपका वाहनयेलो बॉक्स के अन्दर में न रहने पाए और वहां खड़े हुए बिना जंक्शन पार कर जाए। आप येलो बॉक्स जंक्शन में तभी रुक सकते है जब आप राईट साइड मुड़ रहे है या आपके सामने कोई कार है या दूसरी तरफ से कोई कार आ रही है।

जानिए क्या है सड़क पर खीचें गए इस Yellow Boxes का राज और क्या है सिंगल, डबल व मेट्रो की पीली लाइनों का राज?

बता दें कि इस रूल के उल्घंन पर पुलिस ने दोपहिया वाहनों पर 500 रुपये का जुर्माना और फोर व्हीलर के लिए 700 रुपये का जुर्माना तय किया है। इसमें गलत पार्किंग के लिए जुर्माना (100 रुपये), सिग्नल जंपिंग (100 रुपये) और खतरनाक और बेरहम ड्राइविंग (दो / चार पहिया वाहनों के लिए 300 रुपये / 500 रुपये) शामिल हैं।

कैसे करें बॉक्स जंक्शन का उपयोग

वैसे तो उपयोग के नियम उपर बताए गए हैं और ज्यादा जानकारी के लिए आप वीडियो को भी देख सकते हैं। मोटी मोटी बात यह है कि बॉक्स के बाहर अपनी बारी का इंतजार करें और फिर सही सिग्नल मिलने पर अपने वाहन को पास करें।

हालांकि जब यहां पर पीली लाइन या बॉक्स के बारे में चर्चा चल ही रही है तो आइए लगे हाथ आपको इस संबंध में कुछ भी जानकारी दे देते हैं।

सिंगल यलो लाइन

सिंगल यलो लाइन

सिंगल यलो लाइन का उपयोग बाइक के लिए किया जाता है जिसका अर्थ है कि आपको इस पीली लाइन के अंदर अपनी बाइक को पार्क नहीं करना है।

डबल यलो लाइन

डबल यलो लाइन

सड़क पर डबल यलो लाइन का अर्थ होता है कि यहां आप पासिंग या ओवरटेक नहीं कर सकते है।

मेट्रो की पीली लाइन

मेट्रो की पीली लाइन

आपने कभी मेट्रो की यात्रा की होगी तो आपने यह जरूर सुना होगा कि कृपया पीली लाइन के बाहर खड़े हों। दरअसल यह बात सुरक्षा कारणों से कही जाती है। इसका अर्थ यह होता है कि आप मेट्रो की जद से बाहर रहें।

जानिए क्या है सड़क पर खीचें गए इस Yellow Boxes का राज और क्या है सिंगल, डबल व मेट्रो की पीली लाइनों का राज?

उम्मीद है, जुर्माना हमारी लापरवाह प्रकृति को रोकने में सक्षम होगा। लेकिन उस चमत्कार की उम्मीद करना अभी तय नहीं है।

Read more on #off beat
English summary
Yellow Box Junctions are a new type of road marking that are appearing on the streets of Indian cities. The boxes could prove to be the solution for the traffic jam crisis on Indian roads.
Please Wait while comments are loading...

Latest Photos

 

ड्राइवस्पार्क से तुंरत ऑटो अपडेट प्राप्त करें - Hindi Drivespark