ये है Great India का Great पुल, जो Eiffel Tower से भी होगा ऊंचा

Written By:

भारत किसी से भी कम नहीं। इस बात में किसी को कोई संदेह नहीं हो सकता है। जिसकी कड़ी में अब भारत में जल्द ही विश्व का सबसे ऊंचा रेलवे पुल बनाया जा रहा है जो की कश्मीर में चिनाब नदी पर बनाया जाएगा जिसका निर्माण कार्य पूरे जोर शोर से किया जा रहा है। खबरों के मुताबिक यह पुल फिनलैंड और जर्मनी के सलाहकारों द्वारा डिजाइन किया जाएगा। जो कि 1.315 किलोमीटर लंबा और चिनाब नदी के ऊपर 359 मीटर की ऊंचाई पर बनाया जा रहा है।

ये है Great India का Great पुल, जो Eiffel Tower से भी होगा ऊंचा

आपको जानकर हैरानी होगी कि यह पुल सबसे ऊंचे एफिल टावस से भी 35 मीटर अधिक ऊंचा होगा। जहां इस परियोजना से जुड़े मुख्य रेलवे इंजीनियर बीबीएस तोमर का कहना है कि इस पुल का काम खत्म होते ही यह इंजीनियरिंग की एक अनूठी मिसाल बन जाएगा।

ये है Great India का Great पुल, जो Eiffel Tower से भी होगा ऊंचा

आपको बता दें कि कश्मीर रेलवे परियोजना के उधमपुर - श्रीनगर - बारामुला खंड का हिस्सा रहा यह पुल कटरा और बनिहाल के बीच एक संपर्क का आधार बनेगा। वहीं, उच्च भूंकपीय क्षेत्र और सीमा से निकट होने की वजह से डीआरडीओ इस पुल के निर्माण पर विशेष ध्यान दे रहा है।

ये है Great India का Great पुल, जो Eiffel Tower से भी होगा ऊंचा

यह पुल सुरक्षा के मामले में भी काफी आगे होगा है 12000 करोड़ रूपए की लागत से बन रहे इस पुल को आतंकवाद प्रभावित क्षेत्र में किसी भी बड़े विस्फोट को झेलने की क्षमता वाला बनाया जाएगा। इसका विशालकाय ढांचा 2019 तक पुरा होने की संभावना है। क्योंकि इस समय इस पुल के निमार्ण के लिए 1400 कामगार दिन रात काम कर रहे है।

ये है Great India का Great पुल, जो Eiffel Tower से भी होगा ऊंचा

तोमर ने आगे कहा कि पुल का निर्माण कार्य़ कश्मीर रेल लिंक परियोजना का बेहद ही चुनौतीपूर्ण हिस्सा होगा। जिसके चलते जांच एंव रखरखाव को देखते हुए इस पुल पर रोपवे बनाया जाएगा। इस बारे में ब्रिटेन स्थित क्वालिटी कंसल्टेंट डेविड मैकेंजी ने बताया कि यह एक अभूतपूर्व कार्य होगा क्योंकि आप किसी बेहद ही सूदूर स्थान पर सक्षम ठेकेदारों के साथ मिलकर एक विशाल इस्पात के पुल का निर्माण करने में लगे हुए है।

ये है Great India का Great पुल, जो Eiffel Tower से भी होगा ऊंचा

उन्होंने इस परियोजना में अपनी भूमिका को लेकर कहा कि गुणवत्ता नियंत्रण और इसके लिये क्या कुछ स्वीकार्य है और क्या गैर स्वीकार्य है इस बारे में मुझे सुझाव देना है। यह एक बहुत बड़ा कार्य है जिसको लेकर अध्ययन करने और जानने के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय उत्सुक रहेगा। और एक इंजीनियरिंग की बहुत बड़ी मिसाल साबित होगी और भारत को इस पर गर्व होना चाहिए।

ये है Great India का Great पुल, जो Eiffel Tower से भी होगा ऊंचा

एक खबर के मुताबिक इस पुल के निर्माण कार्य से पहले रेलवे को मार्ग सुगम्य बनाने के लिए 22 किलोमीटर लंबी सड़क निर्माण करना होगा। दुर्गम क्षेत्र में करीब 1100 करोड़ रुपये की लागत से बनाए जा रहे अर्धचंद्र आकार के इस बड़े ढांचे के निर्माण में 24,000 टन इस्पात इस्तेमाल होगा।

ये है Great India का Great पुल, जो Eiffel Tower से भी होगा ऊंचा

आश्यर्य की बात तो यह है कि यह पुल निर्माण कार्य पूरा होने के बाद बेईपैन नदी पर बने चीन के शुईबाई रेलवे पुल (275 मीटर) का रिकॉर्ड तोड़ेगा। यह पुल 260 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार वाली हवा को झेल सकता है. इंजीनियरिंग का 1.315 किलोमीटर लंबा यह अजूबा बक्कल (कटरा) और कौड़ी (श्रीनगर) को जोड़ेगा। यह पुल कटरा और बनिहाल के बीच 111 किलोमीटर के इलाके को जोड़ेगा जो, उधमपुर-श्रीनगर-बारामूला रेल लिंक परियोजना का हिस्सा है।

ये है Great India का Great पुल, जो Eiffel Tower से भी होगा ऊंचा

दूसरी ओर इस परियोजना में शामिल रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस पुल का निर्माण कश्मीर रेल लिंक परियोजना का सबसे चुनौतीपूर्ण हिस्सा है और पूरा होने पर यह इंजीनियरिंग का एक अजूबा होगा। यह इलाके में पर्यटकों के आकर्षण का एक केंद्र बनेगा।

ये है Great India का Great पुल, जो Eiffel Tower से भी होगा ऊंचा

निरीक्षण के मकसद के लिए पुल में एक रोपवे होगा। पुल की सुरक्षा के लिए भी पर्याप्त व्यवस्था की गई है. इस पुल से राज्य में आर्थिक विकास और सुगमता बढ़ाने में मदद मिलने की उम्मीद है। इस पुल को बनाने के लिए लगभग 1400 मजदूर दिन रात मेहनत करने में लगे हुए हैं।

ये है Great India का Great पुल, जो Eiffel Tower से भी होगा ऊंचा

दावा किया जा रहा है कि इस पुल को आतंकवाद प्रभावित क्षेत्र में किसी भी बड़े विस्फोट को झेलने की क्षमता वाला बनाया जाएगा। पुल का 60 फीसदी काम पूरा हो चुका है। उच्च भूकंपीय क्षेत्र और सीमा के निकट होने के कारण डीआरडीओ इस पुल पर विशेष ध्यान दे रहा है। लेकिन अब आप बार बार एफिल टॉवर के जिक्र को लेकर सोच पड़े होंगे तो आइए एफिल टॉवर के बारे में भी बताते हैं।

ये है Great India का Great पुल, जो Eiffel Tower से भी होगा ऊंचा

दरअसल एफ़िल टॉवर फ्रांस की राजधानी पैरिस में स्थित एक लोहे का टावर है। इसका निर्माण 1887-1889 में शैम्प-दे-मार्स में सीन नदी के तट पर हुआ था। यह टावर विश्व में उल्लेखनीय निर्माणों में से एक और फ़्रांस की संस्कृति का प्रतीक है। एफ़िल टॉवर की रचना गुस्ताव एफ़िल के द्वारा की गई है और उन्हीं के नाम पर इसका एफ़िल टॉवर का नामकरन हुआ है।

ये है Great India का Great पुल, जो Eiffel Tower से भी होगा ऊंचा

आपको बता दें कि एफ़िल टॉवर की रचना वैश्विक मेले के लिए की गई थी। जब एफ़िल टॉवर का निर्माण हुआ उस वक़्त वह दुनिया की सबसे ऊँची इमारत थी। आज की तारीख में टॉवर की ऊँचाई ३२४ मीटर है, जो की पारंपरिक 81 मंजिला इमारत की ऊँचाई के बराबर है।

ये है Great India का Great पुल, जो Eiffel Tower से भी होगा ऊंचा

बग़ैर एंटेना शिखर के यह इमारत फ़्रांस के मियो शहर के पूल के बाद दूसरी सबसे ऊँची इमारत है। यह तीन मंज़िला टॉवर पर्यटकों के लिए साल के 365 दिनों खुला रहता है। यह टॉवर पर्यटकों द्वारा टिकट खरीदके देखी गई दुनिया की इमारतों में अव्वल स्थान पर है।

ये है Great India का Great पुल, जो Eiffel Tower से भी होगा ऊंचा

बता दें कि पिछले महीने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की सबसे लंबी सुरंग (चेनानी-नाशरी टनल) का उद्घाटन किया था, जो हर मौसम में कश्मीर घाटी को जम्मू से जोड़े रखेगी और 31 किलोमीटर की दूरी कम करेगी. इस सबसे लंबी सुरंग में 124 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं और इस टनल की लंबाई 9.2 किलोमीटर है। ऐसे में ग्रेट इंडिया के इस ग्रेट पुल का इंतजार केवल इंडिया ही नहीं पूरा विश्व कर रहा है।

English summary
India is building a worls tallest bridge in Jammu Kashmir. its contruction is about 35 miter higher than Effel Tower if complited.

Latest Photos

 

ड्राइवस्पार्क से तुंरत ऑटो अपडेट प्राप्त करें - Hindi Drivespark

We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Drivespark sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Drivespark website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more