क्या आपने सोचा है कि ट्रेन में क्यों नहीं मिलती है मनचाही सीट? भौतिकी का यह कारण जान हो जाएंगे हैरान

ट्रेनों में यात्रा करना आज के समय में सबसे किफायती पब्लिक ट्रांसपोर्ट में से एक है। लंबी दूरी की यात्रा करने के लिए ट्रेनों का इस्तेमाल बहुत आम है। ये बात तो साफ है कि किसी भी ट्रेन में सफर करने के लिए आपको टिकट खरीदनी होती है। किसी भी ट्रेन में IRCTC से आपने कभी न कभी कोई टिकट बुक की होगी। अगर नहीं भी की है तो किसी और से करवाई होगी।

क्या आपने सोचा है कि ट्रेन में क्यों नहीं मिलती है मनचाही सीट? भौतिकी का यह कारण जान हो जाएंगे हैरान

जब आपको IRCTC पर किसी ट्रेन की टिकट बुक करनी होती है, तो सबसे पहले आपको IRCTC की वेबसाइट पर लॉग-इन करना होता है। IRCTC वेबसाइट में सफलतापूर्वक लॉग-इन करने के बाद आप यह प्रार्थना करते हैं कि आपकी टिकट सफलतापूर्वक बुक हो जाए और आपको आपकी पसंदीदा विंडो सीट मिल जाए।

क्या आपने सोचा है कि ट्रेन में क्यों नहीं मिलती है मनचाही सीट? भौतिकी का यह कारण जान हो जाएंगे हैरान

ट्रेन का बुकिंग विंडो खोलने पर आपको पता चलता है कि ट्रेन में लगभग 400 सीटें खाल हैं। आप अपनी किस्मत को धन्यवाद करते हैं और सोचते हैं कि आप विंडो सीट को आसानी से बुक कर सकते हैं। अंत में जब आप टिकट बुक कर लेते हैं तो विंडो सीट चुनने के बाद भी आपको विंडो सीट नहीं मिलती है।

क्या आपने सोचा है कि ट्रेन में क्यों नहीं मिलती है मनचाही सीट? भौतिकी का यह कारण जान हो जाएंगे हैरान

इसके बाद आप देखते हैं कि अभी भी 399 सीटें खाली हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि ऐसा क्यों होता है, कि आप जो सीट चाहते हैं, भारतीय रेलवे द्वारा वो सीट नहीं मिलती है? आखिर इसके पीछे का कारण क्या है? तो चलिए आज यहां हम आपको यही बताने जा रहे हैं।

क्या आपने सोचा है कि ट्रेन में क्यों नहीं मिलती है मनचाही सीट? भौतिकी का यह कारण जान हो जाएंगे हैरान

कल्पना कीजिए कि S1, S2 S3 से लेकर S10 नंबर वाली ट्रेन में स्लीपर क्लास के कोच हैं और हर कोच में 72 सीटें हैं। इसलिए जब कोई पहली बार टिकट बुक करता है, तो रेलवे का सॉफ्टवेयर मध्य कोच में एक सीट जैसे S5 कोच में बीच की सीट जो कि 30 से 40 के बीच और ज्यादातर लोवर बर्थ असाइन करेगा।

क्या आपने सोचा है कि ट्रेन में क्यों नहीं मिलती है मनचाही सीट? भौतिकी का यह कारण जान हो जाएंगे हैरान

ऐसा इसलिए है क्योंकि भारतीय रेलवे का यह सॉफ्टवेयर ऊपरी बर्थ की तुलना में निचली बर्थों को पहले भरेगा ताकि गुरुत्वाकर्षण के निम्न केंद्र को प्राप्त किया जा सके। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि एक ट्रेन औसतन लगभग 70 किमी/घंटा की रफ्तार पर चलती है।

क्या आपने सोचा है कि ट्रेन में क्यों नहीं मिलती है मनचाही सीट? भौतिकी का यह कारण जान हो जाएंगे हैरान

अब ऐसे में मान लीजिए कि कोच-S1, S2, S3 भरे हुए हैं और S5, S6 खाली हैं और अन्य आंशिक रूप से भरे हुए हैं, तो ऐसी स्थिति में जब ट्रेन मुड़ती है, तो कुछ कोच अधिकतम सेंट्रीफ्यूगल फोर्स का सामना करते हैं और कुछ न्यूनतम फोर्स का सामना करते हैं। इससे ट्रेन के पटरी से उतरने का खतरा बढ़ जाता है।

क्या आपने सोचा है कि ट्रेन में क्यों नहीं मिलती है मनचाही सीट? भौतिकी का यह कारण जान हो जाएंगे हैरान

जब ब्रेक लगाए जाते हैं तो इन डिब्बों में भारी वजन अंतर के कारण अलग-अलग ब्रेकिंग बल काम करते हैं, जिससे ट्रेन की स्थिरता में व्यवधान पैदा होता है। इसके अलावा सीटें आवंटित करते समय प्रोफाइलिंग भी एक बड़ा कारण है। गर्भवती महिलाओं और वरिष्ठ नागरिकों को निचली बर्थ सीटें दी जाती हैं।

Most Read Articles

Hindi
English summary
Why irctc not allot your prefered berth in any train here is the reason details
Story first published: Friday, May 13, 2022, 14:30 [IST]
 
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X