What Is Form 28, 29, 30 & 35: आरटीओ में फॉर्म 28, 29, 30 और 35 क्या हैं, जानें किस काम आते हैं ये

मोटर वाहन विभाग, साल 1988 के मोटर वाहन अधिनियम के तहत स्थापित किया गया था और भारत में सभी परिवहन नियमों और विनियमों को स्थापित करने के लिए जिम्मेदार है। देश के हर राज्य का अपना क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय या आरटीओ होता है, जो इन नियमों को लागू करता है।

What Is Form 28, 29, 30 & 35: आरटीओ में फॉर्म 28, 29, 30 और 35 क्या हैं, जानें किस काम आते हैं ये

किसी भी राज्य का आरटीओ ड्राइविंग लाइसेंस, वाहन पंजीकरण, वाहनों के टैक्स संग्रह, वाहन बीमा को मान्य करने, प्रदूषण जांच और अन्य ऐसी सेवाओं से संबंधित अन्य कार्य करता है। आरटीओ भी प्रयुक्त कारों की बिक्री में एक भूमिका निभाता है और उनके सत्यापन के बिना किसी भी बिक्री को वैध नहीं माना जाएगा।

What Is Form 28, 29, 30 & 35: आरटीओ में फॉर्म 28, 29, 30 और 35 क्या हैं, जानें किस काम आते हैं ये

जब एक इस्तेमाल की गई कार को बेचने की बात आती है, तो इसके लिए एक निश्चित प्रक्रिया होती है, जिसे बहुत सख्ती से पालन करना पड़ता है। इसके लिए सभी आवश्यक फॉर्म भरना और जमा करना पड़ता है। इनमें फॉर्म 28, फॉर्म 29, फॉर्म 30 और फॉर्म 35 आवश्यक होते हैं। यहां हम आपको बताने जा रहे हैं कि ये फॉर्म क्या होते हैं और किस लिए भरे जाते हैं।

MOST READ: मारुति ने एक्सेसरीज रेंज में जोड़ी टायर्स व बैटरी, जानें कैसे खरीदें

What Is Form 28, 29, 30 & 35: आरटीओ में फॉर्म 28, 29, 30 और 35 क्या हैं, जानें किस काम आते हैं ये

क्या है फॉर्म 28

पंजीकरण प्राधिकारी से अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) प्राप्त करने के लिए आपको फॉर्म 28 भरना होता है। यह फ़ॉर्म इस बात की पुष्टि करता है कि वाहन पर कोई लंबित कर, चालान, आपराधिक रिकॉर्ड या किसी भी प्रकार की देनदारियां नहीं हैं जो आपको इसे बेचने से रोक सकती हैं। आरटीओ में इसकी 3 कॉपी जमा होती हैं।

What Is Form 28, 29, 30 & 35: आरटीओ में फॉर्म 28, 29, 30 और 35 क्या हैं, जानें किस काम आते हैं ये

क्या है फॉर्म 29

जब आप एक इस्तेमाल की हुई कार को थर्ड-पार्टी खरीदार को बेचते हैं, तो उस आरटीओ में, जहां से कार को शुरू में पंजीकृत किया गया था, उसे रिपोर्ट करना होता है। इसके लिए फॉर्म 29 इस प्रक्रिया में मदद करता है। आपको आरटीओ में जमा करने के लिए फॉर्म 29 की 2 प्रतियों की जरूरत होती है।

MOST READ: किया सॉनेट 7 सीटर का पहला वाकअराउंड वीडियो आया सामने, जानें

What Is Form 28, 29, 30 & 35: आरटीओ में फॉर्म 28, 29, 30 और 35 क्या हैं, जानें किस काम आते हैं ये

इसमें यह बताना जरूरी होता है कि बिक्री के दौरान खरीदार को सभी दस्तावेज जैसे कि प्रदूषण नियंत्रण (पीयूसी), पंजीकरण प्रमाणपत्र (आरसी) और बीमा कैसे जमा किए गए हैं।

What Is Form 28, 29, 30 & 35: आरटीओ में फॉर्म 28, 29, 30 और 35 क्या हैं, जानें किस काम आते हैं ये

क्या है फॉर्म 30

फॉर्म 29 आरटीओ को सौंपे जाने के बाद फॉर्म 30 की आवश्यकता होती है। एक बार जब आप आरटीओ को रिपोर्ट करते हैं कि वाहन खरीदार को बेच दिया गया है, तो फॉर्म 30 आरटीओ को बता देता है कि स्वामित्व का हस्तांतरण तत्काल किया जाना चाहिए।

MOST READ: महिंद्रा बोलेरो का आधिकारिक मॉडिफाइड मॉडल आया सामने, देखें

What Is Form 28, 29, 30 & 35: आरटीओ में फॉर्म 28, 29, 30 और 35 क्या हैं, जानें किस काम आते हैं ये

फॉर्म में यह उल्लेख किया गया है कि वाहन के साथ संबंधित सभी आगामी वैधताएं नए खरीदार को हस्तांतरित की जानी चाहिए। कार को बेचने के बाद 14 दिनों के भीतर फॉर्म 30 आरटीओ को जमा करना होता है। बिक्री को पूरा करने के लिए आपको फॉर्म 30 की 2 प्रतियां चाहिए होती हैं।

What Is Form 28, 29, 30 & 35: आरटीओ में फॉर्म 28, 29, 30 और 35 क्या हैं, जानें किस काम आते हैं ये

क्या है फॉर्म 35

जहां फॉर्म 28 आरटीओ से एनओसी के रूप में कार्य करता है, वहीं फॉर्म 35 उस बैंक से एनओसी के रूप में कार्य करता है जहां से कार की खरीद पर फाइनेंस किया गया था। यह फॉर्म केवल तभी आवश्यक है जब कार बैंक ऋण की मदद से खरीदी गई थी और बिक्री प्रक्रिया को पूरा करने के लिए अनिवार्य है। एक बार जब फॉर्म 35 भर दिया जाता है और आरटीओ को सौंप दिया जाता है, तो वाहन के आरसी से 'हाइपोथेकेशन' को समाप्त कर दिया जाएगा।

Most Read Articles

Hindi
English summary
What Is Form 28, 29, 30 And 35 In RTO What Are Their Work Explain Details, Read in Hindi.
Story first published: Saturday, April 10, 2021, 15:53 [IST]
 
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X