सड़क सुरक्षा सप्ताह में भी भारत ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन का बना रहा है World Record

Written By: Deepakkumar

शहर की सड़क सुरक्षा और ट्रैफिक को लेकर करीब महीने भर पहले नासिक पुलिस द्वारा जागरूकता अभियान चलाया गया था, लेकिन इस दौरान ध्यान देने वाली बात यह रही कि वाहन चलाने वालों के ड्राइविंग सेंस में जरा सा भी बदलाव नहीं आया।

सड़क सुरक्षा सप्ताह में भी भारत ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन का बना रहा है World Record

इस दौरान पुलिस ने इस साल करीब 29 घातक दुर्घटनाओं को केवल इस एक माह की अवधि में दर्ज किया। इनमें ज्यादातर दुर्घटनाओं की वजह लापरवाही से ड्राइविंग करना रहा।

सड़क सुरक्षा सप्ताह में भी भारत ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन का बना रहा है World Record

हालांकि यह पिछले साल हुई दुर्घटनाओं की तुलना में कुछ कम रही। लेकिन लोगों का भ्रष्ट ट्रैफिक सेंस पुलिस के लिए अब भी बड़ा सवाल बना हुआ है।

सड़क सुरक्षा सप्ताह में भी भारत ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन का बना रहा है World Record

बता दें कि पुलिस ने 1 जनवरी से लेकर 24 फरवरी के बीच में करीब 76 मामले दर्ज किए जबकि पिछले साल इसका आकड़ा 104 था।

सड़क सुरक्षा सप्ताह में भी भारत ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन का बना रहा है World Record

इस बारे में यातायात पुलिस का कहना है कि शहर की पुलिस ने लोगों की सुरक्षा और यातायात नियमों के पालन के लिए जो कदम उठाए हैं अगर लोग उसका पालन करते हैं तो जाहिर सी बात है दुर्घटनाओं में कमी आ सकती है, लेकिन इस मामले में दो-पहिया वाहनों की हालत तो और भी खराब है।

सड़क सुरक्षा सप्ताह में भी भारत ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन का बना रहा है World Record

इन सब को देखते हुए पुलिस ने स्थानीय पुलिस ने भी दोपहिया वाहन की दुर्घटनाओं को रोकने के लिए कई कदम उठाए, लेकिन सारे नाकाम रहे। इस बारे में सहायक पुलिस आयुक्त (यातायात), जयंत Bajbale का कहना है कि उनका इस पहल का उद्देश्य़ लोगों को उनकी ही सुरक्षा को सुनिश्चित करना है। हालांकि कई लोग इन बातों को मान भी रहे हैं और वे हेलमेट से लेकर कई सुरक्षा किट पहन रहे हैं।

सड़क सुरक्षा सप्ताह में भी भारत ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन का बना रहा है World Record

यातायात पुलिस अब इस प्रावधान पर भी विचार कर रही है कि अगर कोई व्यक्ति दुर्घटना के दौरान हेलमेट नहीं पहन रखा है तो उसके परिवार को बीमे की रकम को प्राप्त करने में परेशानी हो। उन्होंने कहा कि हम सभी इसके लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं लेकिन शर्म की बात यह है कि कुछ लोगों में अब भी कोई सुधार नहीं आ रहा है।

Read more on #off beat
English summary
The traffic awareness campaign have failed to put brakes on the increasing road fatalities in the country.
Story first published: Tuesday, February 28, 2017, 13:09 [IST]
Please Wait while comments are loading...

Latest Photos