सदगुरु जग्गी वासुदेव बाइक से करेगें 30,000 किमी का सफर, मिट्टी संरक्षण के लिए लोगों को करेंगे जागरुक

महाशिवरात्रि पर भव्य आयोजन के दौरान सद्गुरु जग्गी वासुदेव ने ईशा योग केंद्र से बड़ा ऐलान किया। 12 घंटे के वार्षिक सांस्कृतिक कार्यक्रम में, सद्गुरु ने मिट्टी के संरक्षण के लिए 100-दिवसीय अभियान शुरू करने की घोषणा की। उन्होंने दर्शकों को बताया कि उन्होंने मिट्टी के कटाव को रोकने के लिए लोगों और संस्थाओं को जागृत करने के उद्देश्य से लंदन से भारत तक अकेले बाइक से यात्रा करने की योजना बनाई है।

सदगुरु जग्गी वासुदेव बाइक से करेगें 30,000 किमी का सफर, मिट्टी संरक्षण के लिए लोगों को करेंगे जागरुक

इस मिशन के दौरान वह दुनिया की कई प्रसिद्ध हस्तियों से मिलेंगे और ऐसी नीतियां शुरू करने की अपील करेंगे, जिससे सभी देशों में मिट्टी का कटाव रोका जा सके।

सदगुरु जग्गी वासुदेव बाइक से करेगें 30,000 किमी का सफर, मिट्टी संरक्षण के लिए लोगों को करेंगे जागरुक

बाइक से तय करेंगे 30 हजार किलोमीटर की यात्रा

ईशा फाउंडेशन के संस्थापक सद्गुरु ने कहा कि 100 दिन की इस बाइक यात्रा में 27 देश और 30 हजार किलोमीटर की दूरी तय की जाएगी। सद्गुरु कहते हैं कि यह न तो विरोध का तरीका है और न ही जबरदस्ती की रणनीति। यह नागरिकों की इच्छा को प्रकट करने का एक तरीका है।

सदगुरु जग्गी वासुदेव बाइक से करेगें 30,000 किमी का सफर, मिट्टी संरक्षण के लिए लोगों को करेंगे जागरुक

मिट्टी बचाओ आंदोलन की शुरुआत करते हुए, सद्गुरु ने कहा, "इन 100 दिनों में आप में से प्रत्येक को पांच से दस मिनट तक मिट्टी के बारे में सोचना होगा। बहुत जरुरी है कि अब पूरी दुनिया को 100 दिन तक मिट्टी संरक्षण की बात करनी चाहिए।"

सदगुरु जग्गी वासुदेव बाइक से करेगें 30,000 किमी का सफर, मिट्टी संरक्षण के लिए लोगों को करेंगे जागरुक

धरती पर सिर्फ 55 साल की खेती योग्य मिट्टी

मिट्टी के महत्व का जिक्र करते हुए सद्गुरु जग्गी वासुदेव ने कहा कि वैज्ञानिकों और संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों ने अनुमान लगाया है कि धरती पर केवल 55 साल की खेती योग्य मिट्टी बची है। विशेषज्ञों ने एक भयावह खाद्य संकट की चेतावनी दी है जो दुनिया में एक भीषण गृहयुद्ध को जन्म दे सकता है।

सदगुरु जग्गी वासुदेव बाइक से करेगें 30,000 किमी का सफर, मिट्टी संरक्षण के लिए लोगों को करेंगे जागरुक

कार्यक्रम में शामिल होने वाले दर्शकों से आंदोलन में भाग लेने की भावनात्मक अपील करते हुए, सद्गुरु ने कहा, "मिट्टी ही एकमात्र जादुई चीज है, जहां मृत्यु के बाद दफन होने पर भी उसमें से जीवन के अंकुर निकलते हैं।" हम इस मिट्टी से निकले हैं। इसी मिट्टी से हमें भोजन मिलता है और मरने के बाद हम इसी मिट्टी में मिल जाते हैं।

Most Read Articles

Hindi
English summary
Sadhguru to travel 30000 kms from bike to create awareness for soil conservation
Story first published: Monday, March 7, 2022, 16:31 [IST]
 
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X