कार के धुएं और वायु प्रदुषण को स्याही में बदल देगा यह भारतीय डिवाइस, जानिए कैसे करेगा कार्य

Written By: Deepakkumar

अगर सब कुछ ठीक ठाक रहा तो वह दिन दूर नहीं जब आपके कार या वाहन के वायु प्रदुषण को आसानी से फिल्टर किया जा सकेगा और इससे स्याही या पेंट बनाया जा सकेगा। दरअसल एमआईटी मीडिया लैब के Graviky लैब्स ने एक ऐसा यंत्र इजाद किया है जिसके जरिए वायु के प्रदुषण को अवशोषित किया जा सकता है। कहने का अर्थ है कि यह डिवाइस प्रदूषित हवाओं को रिसाइकल कर देगी।

To Follow DriveSpark On Facebook, Click The Like Button
वायु प्रदुषण को स्याही में बदल देगा यह भारतीय डिवाइस, जानिए कैसे करेगा कार्य

वायु प्रदुषण को स्याही और पेंट बनाने वाले इस यंत्र को कम्पनी ने 'कालिंक' नाम दिया गया है। यह अपने स्रोत से प्रदूषित कार्बन को ग्रहण करने में यह उपकरण दुनिया में अपनी तरह का पहला यंत्र है। कम्पनी का दावा है कि यह किसी भी गाड़ी के प्रदुषण को 85 से 90 प्रतिशत तक अवशोषित कर लेगा।

वायु प्रदुषण को स्याही में बदल देगा यह भारतीय डिवाइस, जानिए कैसे करेगा कार्य

कम्पनी के दावों के मुताबिक यह डिवाइस कार्बन को पूरी तरह से खत्म नहीं कर देता है लेकिन इस उपकरण द्वारा कालिख को वातावरण में जाने से पहले ही रोका जा सकेगा। ग्रैविकी लैब का दावा है कि इससे वातावरण में जाने वाले खतरनाक धुएं को रोका जा सकेगा और उद्दोगों के कारण उत्पन्न होने वाले कार्बन उत्सर्जन पर भी लगाम लगाई जा सकेगी।

वायु प्रदुषण को स्याही में बदल देगा यह भारतीय डिवाइस, जानिए कैसे करेगा कार्य

कम्पनी के दावों के मुताबिक यह डिवाइस कार्बन को पूरी तरह से खत्म नहीं कर देता है लेकिन इस उपकरण द्वारा कालिख को वातावरण में जाने से पहले ही रोका जा सकेगा। ग्रैविकी लैब का दावा है कि इससे वातावरण में जाने वाले खतरनाक धुएं को रोका जा सकेगा और उद्दोगों के कारण उत्पन्न होने वाले कार्बन उत्सर्जन पर भी लगाम लगाई जा सकेगी।

वायु प्रदुषण को स्याही में बदल देगा यह भारतीय डिवाइस, जानिए कैसे करेगा कार्य

कालिंक के इस डिवाइस से वाहनों में धुएं के निकासी पाइप से जोड़ा जा सकता है। यह यंत्र इंजन को प्रभावित नहीं करता है। यइ पाइप से 93 प्रतिशत प्रदूषण ग्रहण कर लेता है। इससे एकत्रित हुए कार्बन कालिख से शुद्ध कार्बन हटा दिया जाता है।

वायु प्रदुषण को स्याही में बदल देगा यह भारतीय डिवाइस, जानिए कैसे करेगा कार्य

कम्पनी के मुताबिक इसके बाद तेल के साथ मिलकार इंक और पेंट बनाया जा सकता है। इसकी 30ML इंक किसी कार के 45 मिनट के धुएं के उत्सर्जन के बराबर है।

Read more on #graviky labs
English summary
Kaalink is a simple, yet a clever device that can turn air pollution particles into ink, invented by Graviky Labs.
Please Wait while comments are loading...

Latest Photos

 

ड्राइवस्पार्क से तुंरत ऑटो अपडेट प्राप्त करें - Hindi Drivespark