India
YouTube

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग कौन-सा है? इसे पूरा करने में लगते हैं 3 दिन से ज्यादा

भारतीय रेल लंबी दूरी की यात्रा का एक सुविधाजनक और सस्ता माध्यम है। हर रोज लाखों लोग भारतीय रेल से सफर करते हैं, इनमें कोई छोटी दूरी का सफर करते हैं तो कोई लंबी दूरी का। लेकिन अगर भारत के सबसे लंबे ट्रेन रूट की बात करें तो यह 83 घंटों में पूरा होने वाला 4,000 किमी और 9 से अधिक राज्यों से होकर गुजरने वाला रेल मार्ग है।

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग कौन-सा है? इसे पूरा करने में लगते हैं 3 दिन से ज्यादा

जी हां, यह बिल्कुल सही है कि डिब्रूगढ़ से कन्याकुमारी के बीच रेल मार्ग भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग है और दुनिया के सबसे लंबे मार्गों में भी अपना स्थान बना चुका है। यह मार्ग विभिन्न जलवायु, इलाके और भाषाई क्षेत्रों को देखते हुए और रास्ते में विभिन्न संस्कृतियों का प्रत्यक्ष अनुभव करते हुए गुजरता है।

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग कौन-सा है? इसे पूरा करने में लगते हैं 3 दिन से ज्यादा

कौन सी ट्रेन कवर करती है इस रूट को

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि Vivek Express भारत के सबसे लंबे रेलवे मार्ग को कवर करती है, जो लगभग 55 निर्धारित स्टॉप के साथ 80 घंटे और 15 मिनट में 4,273 किलोमीटर का सफर पूरा करती है। यह तमिलनाडु में भारत की मुख्य भूमि, कन्याकुमारी के सबसे उत्तरी सिरे को पूर्वोत्तर में असम के डिब्रूगढ़ से जोड़ती है।

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग कौन-सा है? इसे पूरा करने में लगते हैं 3 दिन से ज्यादा

इसके बाद वापस जाते समय भी यह ट्रेन उसी रास्ते का अनुसरण करती है। जानकारी के लिए बता दें कि Vivek Express ट्रेन सीरीज नवंबर 2011 में स्वामी विवेकानंद की 150वीं जयंती मनाने के लिए शुरू हुई थी, लेकिन इसकी शुरुआती साल 2013 से की गई थी।

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग कौन-सा है? इसे पूरा करने में लगते हैं 3 दिन से ज्यादा

जब मार्च 2020 में COVID-19 का मुकाबला करने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की गई, तो यह ट्रेन परिचालन को स्थगित करने वाली आखिरी ट्रेन थी। यह ट्रेन उत्तर से दक्षिण की ओर तिनसुकिया, दीमापुर, गुवाहाटी, बोंगाईगांव, अलीपुरद्वार, सिलीगुड़ी, किशनगंज और मालदा से गुजरती है।

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग कौन-सा है? इसे पूरा करने में लगते हैं 3 दिन से ज्यादा

इसके अलावा यह ट्रेन रामपुरहाट, पाकुड़, दुर्गापुर, आसनसोल, खड़गपुर, बालासोर, कटक, भुवनेश्वर, खोरधा, ब्रह्मपुर, श्रीकाकुलम, विजयनगरम, विशाखापत्तनम, सामलकोट, राजमुंदरी, एलुरु, विजयवाड़ा, ओंगोल, नेल्लोर, रेनिगुंटा, वेल्लोर, सेलम, इरोड, कोयंबटूर, पलक्कड़, त्रिशूर, अलुवा, एर्नाकुलम, कोट्टायम, चेंगन्नूर, कोल्लम, तिरुवनंतपुरम और नागरकोइल जैसे स्टेशनों से होकर गुजरती है।

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग कौन-सा है? इसे पूरा करने में लगते हैं 3 दिन से ज्यादा

दुनिया का सबसे लंबा रेल मार्ग

दुनिया का सबसे लंबा रेल मार्ग रूस में है, जो दुनिया का सबसे बड़ा देश है। इस ट्रेन की यात्रा में छह दिन लगते हैं और यह कई समय क्षेत्रों को पार करती है। यह पश्चिमी रूस को देश के सुदूर पूर्व से जोड़ता है। इस ट्रेन से मास्को में अपनी यात्रा शुरू की जाती है और छह दिनों में लगभग 9,250 किलोमीटर के बाद व्लादिवोस्तोक पहुंचा जाता है।

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग कौन-सा है? इसे पूरा करने में लगते हैं 3 दिन से ज्यादा

जिसकी तुलना भारत के सबसे लंबे रेल मार्ग से की जाए तो यह दोगुने से भी ज्यादा लंबा है। सटीक लंबाई बताएं तो यह भारत के रेल मार्ग से 4,977 किमी लंबा है। भारतीय रेलवे के पास 168 वर्षों के इतिहास के साथ दुनिया के सबसे बड़े रेल नेटवर्कों में से एक है और साल 2021 के आंकड़ों के आधार पर पूरे देश को कवर करने वाले 1,26,611 किमी ट्रैक हैं।

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग कौन-सा है? इसे पूरा करने में लगते हैं 3 दिन से ज्यादा

हर रोज लाखों लोग ट्रेन में सफर करते हैं। ट्रेन यातायात का एक ऐसा माध्यम है जो बहुत ही सस्ता और आसानी से मिल जाता है। लेकिन वर्तमान ट्रेन की तकनीक तक पहुंचने के लिए बहुत लंबा समय लगा है। पहला वाष्प इंजन 1804 में ब्रिटेन के रिचर्ड ट्रेविथिक द्वारा पेश किया गया था। आज हम आपको ट्रेन के बारे में कुछ ऐसे तथ्य बताने जा रहे है, जिनके बारे मे शायद आपने कभी नहीं सुना होगा।हर रोज लाखों लोग ट्रेन में सफर करते हैं। ट्रेन यातायात का एक ऐसा माध्यम है जो बहुत ही सस्ता और आसानी से मिल जाता है। लेकिन वर्तमान ट्रेन की तकनीक तक पहुंचने के लिए बहुत लंबा समय लगा है। पहला वाष्प इंजन 1804 में ब्रिटेन के रिचर्ड ट्रेविथिक द्वारा पेश किया गया था। आज हम आपको ट्रेन के बारे में कुछ ऐसे तथ्य बताने जा रहे है, जिनके बारे मे शायद आपने कभी नहीं सुना होगा।

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग कौन-सा है? इसे पूरा करने में लगते हैं 3 दिन से ज्यादा

1. साल 1760 के पहले थॉमस न्यूकोमैन द्वारा बनाए गए ट्रेन इंजन में यह कमी थी कि इसे लगातार गर्म और ठंडा भी करना पड़ता था, जिसकी वजह से बहुत मेहनत लगती थी। जेम्स वॉट ने इस बारे में सोचा और एक अलग कंडेन्सर का इस्तेमाल किया जिससे इंजन को किफायती बनाया जा सके।

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग कौन-सा है? इसे पूरा करने में लगते हैं 3 दिन से ज्यादा

वॉट को लगा इस आइडिया को सबके सामने लाने के लिए एक रास्ता निकालना होगा। इसके लिए वॉट ने इस चीज की गणना की कि एक घोड़ा मिल में कितने लंबे समय तक कार्य कर सकता है, जिसके बाद हॉर्सपॉवर (एचपी) यूनिट की खोज हुई।

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग कौन-सा है? इसे पूरा करने में लगते हैं 3 दिन से ज्यादा

2. अमेरिका में बनी पहली भाप से चलने वाली लोकोमोटिव ट्रेन को घोड़े द्वारा चलाई जाने वाली ट्रेन ने हरा दिया था। दरअसल अमेरिका के एक उद्योगपति पीटर कूपर द्वारा बनाए गए पहले भाप इंजन को 28 अगस्त 1830 में घोड़े द्वार चलाई जाने वाली ट्रेन से मुकाबला करने के लिए उतारा गया था।

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग कौन-सा है? इसे पूरा करने में लगते हैं 3 दिन से ज्यादा

इस रेस के दौरान भाप इंजन ने बहुत जल्द रफ्तार पकड़ी और घोड़े से आगे निकल गई, लेकिन बीच में ही इंजन में लगी एक बेल्ट टूट गई और उसकी रफ्तार धीमी हो गई, जिससे घोड़े वाली ट्रेन जीत गई थी।

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग कौन-सा है? इसे पूरा करने में लगते हैं 3 दिन से ज्यादा

3. अमेरिकन सिविल वॉर के दौरान ट्रेन ने नॉर्थ की बहुत मदद की थी। इस युद्ध के दौरान ट्रेन की मदद से ही सिपाहियों और भारी-भरकम सामान ले जाने में मदद मिलती थी। अब्राहम लिंकन ने सितंबर 1863 में करीब 20,000 रिप्लेसमेंट टुकड़ी को 1,200 मील दूर वॉशिंगटन से जॉर्जिया ट्रेन के जरिए ही भेजा था।

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग कौन-सा है? इसे पूरा करने में लगते हैं 3 दिन से ज्यादा

4. आपको बता दें कि लंदन अंडर ग्राउंड दुनिया का पहला अंडर ग्राउंड रेल मार्ग है। इस मार्ग को साल 1863 में शुरू किया गया था. लंदन की सड़कों पर बढ़ते यातायात को कम करने के लिए इस मार्ग का निर्माण किया गया था। इसके बाद ही साल 1900 में पेरिस मेट्रो और साल 1905 में न्यूयॉर्क सब-वे बनाया गया था।

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे लंबा रेल मार्ग कौन-सा है? इसे पूरा करने में लगते हैं 3 दिन से ज्यादा

5. रिचर्ड ट्रेविथिक एक खदान के इंजीनियर थे, जो उन सबसे पहले लोगों में शामिल थे, जिन्होंने एक लोकोमोटिव इंजन को चलाने के लिए भाप का इस्तेमाल किया था। उनका बनाया पहला इंजन रेल मार्ग पर 4 किलोमीटर/घंटे से भी कम रफ्तार पर चला था।

Most Read Articles

Hindi
English summary
India longest train route covers 4000 km in 82 hours vivek express details
 
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X