बेरोजगार महिला ने बेटे से मिलने के लिए किया 1800 किलोमीटर का सफर, लग गये इतने दिन

देश में पिछले कुछ महीने से लॉकडाउन लगाया गया था जिस वजह से कई लोगों को अपने काम से हाथ धोना पड़ा है। इसमें एक महिला भी शामिल है जो कि अब बेरोजगार व बेघर भी हो गयी है। वह अब अपने 5 साल के बेटे व परिवार से बहुत दूर हो गयी है।

Homeless Woman Travels 1800Km To Meet Son: बेरोजगार महिला बेटे से मिलने 1800 किलोमीटर सफर जानकारी

लेकिन सोनिया दास नाम की महिला का हौसला टुटा नहीं और वह अपने बेटे से मिलने के लिए अपनी दोस्त साबिय बानो के साथ पुणे से मुंबई के रास्ते जमशेदपुर के लिए निकल पड़ी और बीते शुक्रवार वह अपने घर भी पहुँच गयी, थोड़ी देर बाद अपने परिवार को दूर से देखने के बाद उन्हें क़्वारन्टाइन सेंटर में डाल दिया गया।

Homeless Woman Travels 1800Km To Meet Son: बेरोजगार महिला बेटे से मिलने 1800 किलोमीटर सफर जानकारी

वहां पहुंचने के बाद झारखंड स्वास्थ्य विभाग ने दोनों का किया सैंपल ले लिया, साबिया को जहां बुखार हो गया था वहीं सोनिया को सर्दी-खासी व साँस लेने में तकलीफ हो रही थी। सोनिया ने कहा कि उन्होंने अपने बेटे व परिवार वालों को बालकनी से देखा, उसके बाद टेल्को क़्वारन्टाइन सेंटर में शिफ्ट हो गयी।

MOST READ: प्रेग्नेंट पत्नी को वापस लाने के लिये पति ने किया 4000 किलोमीटर का सफर

Homeless Woman Travels 1800Km To Meet Son: बेरोजगार महिला बेटे से मिलने 1800 किलोमीटर सफर जानकारी

सानिया का कोविड-19 टेस्ट नेगेटिव आने के बाद प्रशासन ने उनके बेटे से मिलने का इंतजाम कर दिया। पुलिस ने बताया कि साबिया व सोनिया को उनकी मर्जी के हिसाब से होम क़्वारन्टाइन में डाल दिया गया है और सुखा राशन प्रदान कर दिया गया है।

Homeless Woman Travels 1800Km To Meet Son: बेरोजगार महिला बेटे से मिलने 1800 किलोमीटर सफर जानकारी

मुंबई में रेंट ना चुका पाने के कारण सोनिया को पुणे में साबिया के साथ रहना पड़ रहा था। उनके सफर के बारें में बतातें हुए उन्होंने कहा कि 1800 किलोमीटर के स्कूटर के सफर में कोविड-19 से जूझ रहे राज्य से गुजरने के दौरान वह दस पेट्रोल पंप व तीन ढाबे पर रुके।

MOST READ: इस बड़ी ट्रक को 1700 किलोमीटर का सफर करने में लग गये एक साल, जानें क्यों

Homeless Woman Travels 1800Km To Meet Son: बेरोजगार महिला बेटे से मिलने 1800 किलोमीटर सफर जानकारी

चार दिन के हाईवे के इस सफर पर उन्हें सुरक्षा को लेकर कोई भी डर महसूस नहीं हुआ। सोनिया ने बताया कि 'हमने अधिकतर बड़ा-पाव व पानी पर गुजारा किया। बहुत से लोगों ने हमे लड़का समझा क्योकि हमारा चेहरा हेलमेट से ढका था और हम शर्ट व पैंट पहने हुए थे।'

Homeless Woman Travels 1800Km To Meet Son: बेरोजगार महिला बेटे से मिलने 1800 किलोमीटर सफर जानकारी

उन्होंने आगे कहा कि कई लोकल लोग हमारी मदद के लिए सामने आये और हमें खाना व पानी दिया। एक व्यक्ति जो हमें महाराष्ट्र बॉर्डर पर मिला था जो साबिया को हमारी सुरक्षा को लेकर पूछताछ करता रहता था। जमेशदपुर के डीसी सूरज कुमार के परमिशन मिलने के बाद ही उन्हें जिले में इजाजत मिली थी।

MOST READ: लॉकडाउन में बेरोजगार हुआ इंजीनियर, अब कॉम्पिटिशन में जीती करोड़ो की लैम्बोर्गिनी उरुस कार

Homeless Woman Travels 1800Km To Meet Son: बेरोजगार महिला बेटे से मिलने 1800 किलोमीटर सफर जानकारी

सोनिया ने जमशेदपुर के लिए निकलने से पहले महाराष्ट्र व झारखंड दोनों सरकार से मदद मांगी थी लेकिन नहीं मिली। उन्होंने सोनू सूद को भी ट्वीट किया था लेकिन कोई मदद उपलब्ध नहीं हो पायी थी। इसलिए उन्होंने अपने से 20 जुलाई को वापस जमशेदपुर जाने का फैसला लिया था।

Most Read Articles

Hindi
English summary
Homeless Woman Travels 1800Km To Meet Son. Read in Hindi.
 
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X