डच छात्रों ने बेकार कचरे से बनाई यह बेहतरीन इलेक्ट्रिक कार, देती है 220 किमी की रेंज

इलेक्ट्रिक कारों का बाजार पूरी दुनिया में तेजी से बढ़ता जा रहा है। जहां एक ओर कार निर्माता कंपनियां नई तकनीक और फीचर्स से लोडेड इलेक्ट्रिक वाहनों को बाजार में उतारने के लिए लगातार शोध कर रही है, वहीं कुछ स्वतंत्र तकनीशियन भी इलेक्ट्रिक वाहनों पर काम करते ही रहते हैं।

डच छात्रों ने बेकार कचरे से बनाई यह बेहतरीन इलेक्ट्रिक कार, देती है 220 किमी की रेंज

हम आपको भारत के कुछ ऐसे ही उदाहरण दिखा चुके हैं, जिसमें स्वतंत्र रूप से काम करने वाले इंजीनियर्स ने अपनी कुशलता और इंजीनियरिंग के बल पर पेट्रोल या डीजल से चलते वाले वाहनों को ऑल-इलेक्ट्रिक वाहन में तब्दील किया है।

डच छात्रों ने बेकार कचरे से बनाई यह बेहतरीन इलेक्ट्रिक कार, देती है 220 किमी की रेंज

अब एक ऐसा ही कुछ डच छात्रों की एक टीम ने भी किया है। इन छात्रों ने पूरी तरह से कचरे से बनी एक इलेक्ट्रिक कार बनाई है। यह कार पूरी तरह से काम करती है। जानकारी के अनुसार इस कार को समुद्र से निकले प्लास्टिक, रीसाइकल्ड पीईटी बोतलें और घरेलू कचरे से बनाया गया है।

MOST READ: रेप्सोल ने होंडा टू-व्हीलर के लिए लॉन्च किया इंजन ऑयल, जानें

डच छात्रों ने बेकार कचरे से बनाई यह बेहतरीन इलेक्ट्रिक कार, देती है 220 किमी की रेंज

आइंडहोवन के तकनीकी विश्वविद्यालय ने इस कार के बारे में जानकारी दी है। विश्वविद्यालय का कहना है कि "इस कार को चमकदार पीले कलर में रखा गया है और इसका नाम लुका रखा गया है। यह स्पोर्टी टू-सीटर इलेक्ट्रिक कार है, जिसे छात्रों ने बनाया है।

डच छात्रों ने बेकार कचरे से बनाई यह बेहतरीन इलेक्ट्रिक कार, देती है 220 किमी की रेंज

विश्वविद्यालय ने आगे कहा कि "यह कार एक बार पूरी तरह से चार्ज होने पर अधिकतम 220 किलोमीटर तक की रेंज प्रदान करती है और इस कार की अधिकतम रफ्तार 56 मील प्रति घंटा यानी करीब 90 किलोमीटर प्रति घंटे आंकी गई है।"

MOST READ: महिंद्रा दिवाली में करेगी नए थार की 1,000 यूनिट की डिलीवरी, जानें

इस प्रोजेक्ट की मैनेजर लिसा वैन एटन ने मीडिया को जानकारी दी है कि "यह कार वास्तव में स्पेशल कार है, क्योंकि यह कार बिल्कुल बेकार चीजों से बनाई गई है। इस कार की चेसिस फ्लैक्स और रीसाइकल्ड पीईटी बोतलों से बनाई गई है।"

डच छात्रों ने बेकार कचरे से बनाई यह बेहतरीन इलेक्ट्रिक कार, देती है 220 किमी की रेंज

आगे उन्होंने बताया कि "कार के इंटीरियर को बनाने के लिए हमने अनसॉर्टेड घरेलू कचरे का भी इस्तेमाल किया है। इस कार को लगभग 18 महीनों में 22 छात्रों के समूह द्वारा डिजाइन और बनाया गया था, जो कचरे की क्षमता को साबित करने का प्रयास है।"

Most Read Articles

Hindi
English summary
Dutch Students Made Fully Electric Car By Using Wastes Details, Read in Hindi.
Story first published: Friday, November 13, 2020, 18:20 [IST]
 
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X