कोई धंधा नहीं फिर भी 7.5 करोड़ रुपए कमाती है दिल्ली की ट्रैफिक पुलिस

Written By:

ट्रैफिक पुलिस, पुलिस विभाग का ही एक हिस्सा है और यह सभी जानते हैं कि उनके पास ड्यूटी के अलावा कमाई का अपना कोई सोर्स नहीं हैं। लेकिन यह अर्धसत्य है। पूरा सत्य यह है कि ट्रैफिक पुलिस की कमाई का भी सोर्स है और उसकी इनकम किसी एमएनसी कम्पनी से कम नहीं।

कोई धंधा नहीं फिर भी 7.5 करोड़ रुपए कमाती है दिल्ली की ट्रैफिक पुलिस

जी हां, आपको जानकार भले आश्चर्य होगा लेकिन यह सत्य है कि दिल्ली के ट्रैफिक पोलिस की कमाई करोड़ों की है और यह सब संभव होता है। ट्रैफिक चालान में काटी गई चालान की राशि की वजह से। एक रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली की ट्रैफिक पोलिस की मंथली इनकम(केवल चालान से प्राप्त वाली मुद्रा) 7.5 करोड़ है।

कोई धंधा नहीं फिर भी 7.5 करोड़ रुपए कमाती है दिल्ली की ट्रैफिक पुलिस

हिंदी समाचारपत्र वनभारत टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक अपनी इस आदत के लिए दिल्ली के लोग हर महीने जुर्माने के रूप में 7.5 करोड़ रुपये का जुर्माना भी भरते हैं। जुर्माना वसूलने में ट्रैफिक पुलिस की साउथ रेंज सबसे ऊपर है। इस रेंज में एक दिन में 6 लाख 75 हजार रुपये का जुर्माना वसूला गया।

कोई धंधा नहीं फिर भी 7.5 करोड़ रुपए कमाती है दिल्ली की ट्रैफिक पुलिस

रिपोर्ट के मुताबिक नियम तोड़ने वालों में सबसे ज्यादा व्यक्ति टूव्हीलर वाले होते है। इसके बाद दूसरा नंबर पर कार सवार की बारी आती हैं। इस बारे में ट्रैफिक पुलिस के एक अफसर का कहना है कि दिल्ली में रहने वाले लोग ट्रैफिक नियमों का पालन करने में अपनी तौहीन समझते हैं।

कोई धंधा नहीं फिर भी 7.5 करोड़ रुपए कमाती है दिल्ली की ट्रैफिक पुलिस

पोलिस के मुताबिक रेडलाइट जंप करना, ट्रिपल राइडिंग, बगैर हेलमेट पहनकर गाड़ी चलाना और ड्राइविंग करते हुए मोबाइल फोन पर बात करना लोगों की आदत में शामिल हो चुका है। लोगों की यही लापरवाही दिल्ली की सड़कों पर हादसों की वजह बनती है।

कोई धंधा नहीं फिर भी 7.5 करोड़ रुपए कमाती है दिल्ली की ट्रैफिक पुलिस

दोपहिया सवार व्यक्ति सबसे ज्यादा ट्रैफिक नियम तोड़ते हैं। रिपोर्ट बताती है कि ट्रैफिक पुलिस ने 8 अगस्त को एक ही दिन में दिल्ली भर में 6840 लोगों के चालान काटी है। इसके बाद दूसरे नंबर पर कार चलाने वाले है। ट्रैफिक पुलिस ने अलग-अलग अपराधों में 3546 लोगों के खिलाफ एक्शन लिया।

कोई धंधा नहीं फिर भी 7.5 करोड़ रुपए कमाती है दिल्ली की ट्रैफिक पुलिस

इसके बाद नंबर आता है लाइट गुड्स वीकल (एलजीवी) का। ट्रैफिक पुलिस ने 3383 गाड़ियों के खिलाफ एक्शन लिया। ऐसे में एक दिन में करीब 20-25 हजार चालान किए गए। जहां से कई लाख का फायदा हुआ । इस बारे में अफसर ने बताया कि 8 अगस्त को ट्रैफिक पुलिस ने नियम तोड़ने वाले लोगों से एक दिन में 26 लाख का जुर्माना वसूला गया।

कोई धंधा नहीं फिर भी 7.5 करोड़ रुपए कमाती है दिल्ली की ट्रैफिक पुलिस

बताया जा रहा है कि जुर्माना वसूलने में साउथ रेंज सबसे ऊपर रही। इस रेंज में 6,75,000 रुपये का जुर्माना वसूला गया। वहीं वेस्टर्न रेंज 5,81,000 रुपये के जुर्माने के साथ दूसरे नंबर पर रही। आउटर रेंज 5,47,000 रुपये के साथ तीसरे नंबर पर रही।

कोई धंधा नहीं फिर भी 7.5 करोड़ रुपए कमाती है दिल्ली की ट्रैफिक पुलिस

दूसरे और ईस्टर्न रेंज की बात करे तो यहां 3,31,000 और सेंट्रल रेंज में तीन लाख 3800 रुपये जुर्माना वसूला गया। सबसे कम जुर्माना नार्दर्न रेंज में वसूला गया। यहां से 1,79,000 रुपये के साथ यह रेंज सबसे पीछे रही।

Drivespark की राय

Drivespark की राय

ट्रैफिक नियम को तोड़ने में हम भारतीय लोग अपनी शान समझते हैं लेकिन यह न केवल हमारी गंदी आदत को दर्शाती है बल्कि दूसरे की परेशानी का सबब भी बन जाती है।

इससे कभी ट्रैफिक जाम तो कभी कभी इससे हादसे भी होते रहते हैं। इसलिए इस गंदी आदत को अवाइड करने की जरूरत है।

नोट- आर्टिकल की कुछ तस्वीरें सहयोगी संस्थान हिंदी वनइंडिया और कुछ तस्वीरें गूगल से साभार ली गई है।

English summary
Traffic police in Delhi earns around 7.25 million rupees per month. But let's know about this news in detail.

Latest Photos

 

ड्राइवस्पार्क से तुंरत ऑटो अपडेट प्राप्त करें - Hindi Drivespark

We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Drivespark sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Drivespark website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more