हवाई जहाज में क्यों नहीं लगाए जाते हैं लिक्विड-कूल्ड इंजन, क्यों होता है एयर-कूल्ड इंजन का इस्तेमाल?

किसी भी वाहन में लगा IC इंजन बहुत अधिक गर्मी पैदा करता है, फिर वो चाहे मोटरसाइकिल में हो, कार में हो, बस या ट्रक में हो, ट्रेन में हो या हवाई जहाज में ही क्यों न हो। इन सभी वाहनों के इंजन बहुत ज्यादा गर्मी पैदा करते हैं। इन इंजनों में एक कम्बंशन चेंबर होता है, जिसमें ईंधन और हवा को जलाया जाता है। जैसे ही ये पदार्थ जलते हैं, वैसे ही ये बहुत सारी गर्मी उत्पन्न करते हैं।

हवाई जहाज में क्यों नहीं लगाए जाते हैं लिक्विड-कूल्ड इंजन, क्यों होता है एयर-कूल्ड इंजन का इस्तेमाल?

हवाई जहाज की बात करें तो इसे इंजन कुछ गर्मी तो बर्दाश्त कर सकते हैं, लेकिन बहुत ज्यादा गर्मी से इन्हें भारी नुकसान हो सकता है। अत्यधिक गर्मी इंजन की सतहों को विकृत कर सकती है, दरारें पैदा कर सकती है, तेल वाष्पीकृत कर सकती है और अन्य प्रकार के गंभीर नुकसान का कारण बन सकती है।

हवाई जहाज में क्यों नहीं लगाए जाते हैं लिक्विड-कूल्ड इंजन, क्यों होता है एयर-कूल्ड इंजन का इस्तेमाल?

ऐसा होने से रोकने के लिए हवाई जहाज के इंजनों को ठंडा करना बेहद जरूरी है। इंजनों को ठंडा रखने से गर्मी से होने वाले नुकसान को रोका जा सकता है। लेकिन सवाल यह उठता है कि हवाई जहाज के इतने बड़े इंजन को ठंडा किया कैसे जाता है। यहां हम आपको इसी बात की जानकारी देने जा रहे हैं।

हवाई जहाज में क्यों नहीं लगाए जाते हैं लिक्विड-कूल्ड इंजन, क्यों होता है एयर-कूल्ड इंजन का इस्तेमाल?

अधिकांश हवाई जहाज इंजन होते हैं एयर-कूल्ड

अधिकांश हवाई जहाजों में एयर-कूल्ड इंजनों का इस्तेमाल किया जाता है। दूसरे शब्दों में कहें तो हवाई जहाज अपने इंजन को ठंडा करने के लिए फ्रेम के ऊपर से बहने वाली हवा का इस्तेमाल करते हैं। एयर-कूल्ड इंजन कूलिंग फिन्स के साथ डिजाइन किए जाते हैं।

हवाई जहाज में क्यों नहीं लगाए जाते हैं लिक्विड-कूल्ड इंजन, क्यों होता है एयर-कूल्ड इंजन का इस्तेमाल?

ये फिन्स धातु के छोटे और पतले टुकड़े होते हैं जो इंजन के सिर और बैरल से निकलते हैं। कूलिंग फिन इंजन से गर्मी को हवाई जहाज के बाहरी हिस्से में स्थानांतरित करने का काम करते हैं। वे उन इंजनों से गर्मी को अवशोषित करते हैं, जिनके साथ उनका उपयोग किया जाता है।

हवाई जहाज में क्यों नहीं लगाए जाते हैं लिक्विड-कूल्ड इंजन, क्यों होता है एयर-कूल्ड इंजन का इस्तेमाल?

इंजन से कूलिंग फिन में हीट ट्रांसफर होती है और क्योंकि शीतलन पंख हवाई जहाज के बाहरी हिस्से में स्थित होते हैं, गर्मी सुरक्षित रूप से नष्ट हो जाती है और इससे इंजन को नुकसान से बचाया जाता है। लेकिन जैसा कि आपको पता है कि कार्स और मोटरसाइकिल में लिक्विड-कूल्ड इंजन मिलता है, लेकिन हवाई जहाज में इन इंजन का इस्तेमाल नहीं होता है।

हवाई जहाज में क्यों नहीं लगाए जाते हैं लिक्विड-कूल्ड इंजन, क्यों होता है एयर-कूल्ड इंजन का इस्तेमाल?

ज्यादातर हवाई जहाज में क्यों होता है एयर-कूल्ड इंजन

अधिकांश हवाई जहाजों में एयर-कूल्ड इंजन ठीक-ठीक क्यों होते हैं? लिक्विड-कूलिंग की तुलना में, एयर-कूलिंग हवाई जहाजों के लिए कई फायदे प्रदान करता है। एयर-कूलिंग से हवाई जहाजों के कुल वजन को कम रखने में मदद मिलती है। एयर-कूल्ड इंजन वाले हवाई जहाज को कूलेंट या अन्य तरल पदार्थों की आवश्यकता नहीं होती है।

हवाई जहाज में क्यों नहीं लगाए जाते हैं लिक्विड-कूल्ड इंजन, क्यों होता है एयर-कूल्ड इंजन का इस्तेमाल?

इसके परिणाम स्वरूप उनका वजन लिक्विड-कूल्ड इंजन वाले हवाई जहाजों की तुलना में कम होता है। एयर-कूल्ड इंजन अपने लिक्विड-कूल्ड समकक्ष इंजनों के मुकाबले कम फेल होते हैं। उन्हें केवल पंखों की आवश्यकता होती है, जो धातु के साधारण टुकड़े होते हैं जो गर्मी को स्थानांतरित करते हैं।

हवाई जहाज में क्यों नहीं लगाए जाते हैं लिक्विड-कूल्ड इंजन, क्यों होता है एयर-कूल्ड इंजन का इस्तेमाल?

वहीं दूसरी ओर, लिक्विड-कूल्ड इंजनों को अतिरिक्त कम्पोनेंट्स की आवश्यकता होती है। इनके लिए रेडिएटर, थर्मोस्टेट और होसेस जैसे कम्पोनेंट्स को लगाना आवश्यक होता है। इसके अलावा एयर-कूल्ड इंजन के साथ जमने का कोई खतरा नहीं होता है।

Most Read Articles

Hindi
English summary
Why airplane always use air cooled engine how it cool engine details
Story first published: Thursday, June 16, 2022, 12:40 [IST]
 
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X