सेकेंड हैंड कारों की खरीद-बिक्री के लिए सरकार ला रही है नया नियम, इस तरह अपराध पर लगेगा लगाम

सेकेंड हैंड वाहन बेचने वाले डीलरों को जल्द ही भारत में रेगुलेट किया जा सकता है। नए नियमों के तहत सेकेंड हैंड कार बेचने वाले डीलरों और बिचौलियों को बिक्री की प्रक्रिया के बारे में सरकार को सूचित करना होगा। एक रिपोर्ट के अनुसार, डीलर बेची जाने वाली हर पुरानी कार के बारे में सरकारी अधिकारी को सूचित करेंगे। इस सूचना में डीलर, कार और ग्राहक की जानकारी शामिल होगी। इस नए नियम को ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों तरह की बिक्री के लिए लागू किया जाएगा। रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार यह नियम सेकेंड हैंड कार बाजार को सुरक्षित रखने और ग्राहकों को धोखे से बचाने के लिए ला रही है।

सेकेंड हैंड कारों की खरीद-बिक्री के लिए सरकार ला रही है नया नियम, इस तरह अपराध पर लगेगी लगाम

डीलरों को मिलेगा लाइसेंस

जानकारी के मुताबिक, कार री-सेलर को सरकार द्वारा लाइसेंस भी जारी किया जाएगा। नियमों का उल्लंघन करते पाए जाने पर इसे निरस्त भी किया जा सकता है। अब डीलर जिस कार की री-सेल करेगा उसका पंजीकरण अनिवार्य होगा। जानकारी के अनुसार, जैसे ही कोई व्यक्ति डीलर को अपनी कार बेचता है तो दोनों को इसकी जानकारी अपने स्थानीय आरटीओ में देनी होगी।

सेकेंड हैंड कारों की खरीद-बिक्री के लिए सरकार ला रही है नया नियम, इस तरह अपराध पर लगेगी लगाम

डीलर को वाहन के रजिस्ट्रेशन, फिटनेस और एनओसी जैसे दस्तावेजों के ट्रांसफर के लिए आवेदन होगा। इसके बाद डीलर वाहन का वैध मालिक माना जाएगा और कार से होने वाले किसी भी तरह के नियम उल्लंघन के लिए डीलर ही दोषी होगा।

सेकेंड हैंड कारों की खरीद-बिक्री के लिए सरकार ला रही है नया नियम, इस तरह अपराध पर लगेगी लगाम

गड़बड़ी के कई मामले आ चुके हैं सामने

डीलर द्वारा पुराने मालिक के नाम पर कार का इस्तेमाल करने के कई मामले सामने आ चुके हैं। डीलर पुराना वाहन खरीदने के बाद उसे अपने नाम पर पंजीकृत करनवाने में देर करते हैं और तब तक वह कार का इस्तेमाल अपने व्यक्तिगत उपयोग के लिए करते हैं। ऐसे कई मामले सामने आए हैं जहां मालिक द्वारा डीलर को कार बेचे जाने के बाद उस कार का डीलरों ने गलत काम के लिए इस्तेमाल किया है। रजिस्ट्रेशन ट्रांसफर नहीं होने के कारण कई बार ऐसी कारों पर चालान पहले मालिक के नाम पर काट दिया जाता है।

सेकेंड हैंड कारों की खरीद-बिक्री के लिए सरकार ला रही है नया नियम, इस तरह अपराध पर लगेगी लगाम

वर्तमान में, ऐसे वाहनों को सूचीबद्ध करने के लिए कोई निर्धारित नियम नहीं हैं। रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि ऐसे कई मामले सामने आए हैं जब वाहन के नए मालिक को वाहन के पुराने मालिक द्वारा किए गए उल्लंघन के लिए कानूनी कार्रवाई से गुजरना पड़ा।

सेकेंड हैंड कारों की खरीद-बिक्री के लिए सरकार ला रही है नया नियम, इस तरह अपराध पर लगेगी लगाम

नए नियमों के अनुसार, वाहन की बिक्री डीलर के माध्यम से होगी और पुराने और नए खरीदारों के बीच कोई संबंध नहीं होगा। परिवहन कार्यालय में नए मालिक के विवरण को पंजीकृत करवाने की जिम्मेदारी डीलर की होगी।

सेकेंड हैंड कारों की खरीद-बिक्री के लिए सरकार ला रही है नया नियम, इस तरह अपराध पर लगेगी लगाम

वित्त वर्ष 2021 में, भारत में लगभग 30.5 लाख पुरानी कारों की बिक्री की गई थी। वहीं, इसी अवधि के दौरान वैश्विक स्तर पर 4 करोड़ से अधिक सेकेंड हैंड कारों को बेचा गया है। कई अध्ययनों के अनुसार, 2026 तक भारत में पुरानी कारों का बाजार 70 लाख को छू सकता है।

सेकेंड हैंड कारों की खरीद-बिक्री के लिए सरकार ला रही है नया नियम, इस तरह अपराध पर लगेगी लगाम

भारत में सेकेंड हैंड कारों के बाजार के 2026-27 तक 19.5 प्रतिशत तक बढ़ने का अनुमान है। इंडियन ब्लूबुक और दास वेल्टऑटो द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट के मुताबिक, 2026 तक छोटे शहरों में सेकेंड हैंड कारों की मांग में 30 फीसदी की बढ़ोतरी होगी। वहीं, 40 प्रमुख शहरों में पुरानी कारों की मांग में 10 फीसदी का इजाफा होना तय है।

सेकेंड हैंड कारों की खरीद-बिक्री के लिए सरकार ला रही है नया नियम, इस तरह अपराध पर लगेगी लगाम

रिपोर्ट में बताया गया है कि इस उछाल के पीछे का कारण प्रमाणित कारों की उपलब्धता, खर्च करने लायक आय, कार के कार्यकाल में गिरावट और दोपहिया वाहनों के स्वामित्व की कम अवधि है।

Most Read Articles

Hindi
English summary
New rules for second hand car dealers to be implemented soon
Story first published: Wednesday, September 14, 2022, 14:09 [IST]
 
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X