India
YouTube

इलेक्ट्रिक वाहनों से प्रदूषण नहीं होगा कम, चार्जिंग स्टेशनों की कमी बनेगी मुसीबत: मारुति सुजुकी

देश की सबसे बड़ी कार निर्माता मारुति सुजुकी इलेक्ट्रिक वाहनों के इस्तेमाल को लेकर उत्साहित नहीं है। कंपनी का कहना है कि इलेक्ट्रिक वाहन भविष्य में प्रदूषण को कम करने का साधन नहीं है। हिंदुस्तान टाइम्स ऑटो के एक रिपोर्ट के अनुसार, मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड (MSIL) के चेयरमैन आरसी भार्गव ने कहा कि हाइब्रिड, सीएनजी और एथेनॉल से चलने वाले वाहन इलेक्ट्रिक वाहनों का बेहतर विकल्प साबित हो सकते हैं।

इलेक्ट्रिक वाहनों से प्रदूषण नहीं होगा कम, चार्जिंग स्टेशनों की कमी बनेगी मुसीबत: मारुति सुजुकी

उन्होंने कोयले जैसे जीवाश्म ईंधन पर भारत की निर्भरता पर इशारा करते हुए कहा कि मौजूदा समय में भारत अपनी आवश्यकता की 75 प्रतिशत बिजली कोयले से तैयार करता है। ऐसे में इलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज करने में बिजली की अधिक खपत होगी और इससे कोयले की खपत भी बढ़ेगी। इसके परिणामस्वरुप प्रदूषण भी बढ़ेगा।

इलेक्ट्रिक वाहनों से प्रदूषण नहीं होगा कम, चार्जिंग स्टेशनों की कमी बनेगी मुसीबत: मारुति सुजुकी

उनका कहना है कि जब तह भारत अक्षय ऊर्जा श्रोतों से बिजली को जरूरत को पूरा करने में सक्षम नहीं हो जाता, इलेक्ट्रिक वाहनों से कार्बन उत्सर्जन बढ़ने का खतरा हमेशा बना रहेगा। भार्गव का मानना है कि भारत को भविष्य में सिर्फ इलेक्ट्रिक वाहनों पर निर्भर न होकर, पहले से उपलब्ध हाइब्रिड, सीएनजी, बायोगैस और एथेनॉल जैसी तकनीकों को भी बेहतर बनाने पर काम करना चाहिए।

इलेक्ट्रिक वाहनों से प्रदूषण नहीं होगा कम, चार्जिंग स्टेशनों की कमी बनेगी मुसीबत: मारुति सुजुकी

एक अन्य रिपोर्ट में दावा किया गया है कि मारुति अगले 12 महीनों के भीतर भारत में एक पूरी तरह हाइब्रिड कार लॉन्च करेगी। उन्होंने कहा कि हाइब्रिड कार एक पूरी तरह इलेक्ट्रिक कार से बेहतर होता है। इसे इलेक्ट्रिक कार की तरह बार-बार चार्ज करने की जरूरत नहीं होती और कार्बन उत्सर्जन भी कम करता है।

इलेक्ट्रिक वाहनों से प्रदूषण नहीं होगा कम, चार्जिंग स्टेशनों की कमी बनेगी मुसीबत: मारुति सुजुकी

उन्होंने कहा, "बिना चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर से भारत में इलेक्ट्रिक कारों का बड़े स्तर पर सफल हो पाना मुश्किल है। भारत के परिवहन को ग्रीन वाहनों में परिवर्तित करने में काफी समय लग सकता है।"

इलेक्ट्रिक वाहनों से प्रदूषण नहीं होगा कम, चार्जिंग स्टेशनों की कमी बनेगी मुसीबत: मारुति सुजुकी

आपको बता दें, इस साल अप्रैल में मारुति ने कहा था कि कंपनी अपनी पहली इलेक्ट्रिक कार के प्रोजेक्ट पर काम कर रही है जिसे 2025 तक तैयार कर लिया जाएगा। हालांकि, कंपनी ने कहा है कि वह इलेक्ट्रिक कार तभी लॉन्च करेगी जब बाजार में इलेक्ट्रिक कारों की मांग अच्छी हो जाएगी। कंपनी ने कहा था कि इलेक्ट्रिक कार उत्पादन उसके गुजरात के प्लांट में किया जाएगा।

इलेक्ट्रिक वाहनों से प्रदूषण नहीं होगा कम, चार्जिंग स्टेशनों की कमी बनेगी मुसीबत: मारुति सुजुकी

वर्तमान में, मारुति सुजुकी नई ब्रेजा को 30 जून को लॉन्च करने की तैयारी कर रही है। नई ब्रेजा एक नए डिजाइन के साथ कई नए फर्स्ट-इन सेगमेंट फीचर्स से लैस होगी। लॉन्चिंग के बाद कॉम्पैक्ट एसयूवी सेगमेंट में नई ब्रेजा का मुकाबला टाटा नेक्सन से होगा।

इलेक्ट्रिक वाहनों से प्रदूषण नहीं होगा कम, चार्जिंग स्टेशनों की कमी बनेगी मुसीबत: मारुति सुजुकी

नई मारुति ब्रेजा में एलईडी प्रोजेक्टर हेडलैंप, नए एलईडी डीआरएल, फॉग लाइट, नए फ्रंट और रियर बंपर, नई ग्रिल, नए डुअल-टोन अलॉय व्हील्स, नए रैपराउंड एलईडी टेल लाइट्स, ब्रेजा लेटरिंग, बूट लिड और कंट्रास्ट रंगीन स्किड प्लेट जैसे फीचर्स मिलेंगे। इसके सेगमेंट फर्स्ट फीचर्स में रंगीन हेड्स-अप डिस्प्ले, 360 डिग्री कैमरा और इलेक्ट्रिक सनरूफ, 6-एयरबैग्स शामिल हैं।

Most Read Articles

Hindi
English summary
Maruti says electric vehicles not a solution for increasing carbon emission
Story first published: Monday, June 27, 2022, 17:31 [IST]
 
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X