सरकार ने इथेनॉल उत्पादन और EV की बिक्री के लिए रखा लक्ष्य, CNG वाहनों को भी मिलेगा बढ़ावा

देश में लगातार प्रदूषण का स्तर बढ़ता जा रहा है। सरकार लगातार इसे कम करने के प्रयास कर रही है। इसी कड़ी में भारत सरकार के सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री Nitin Gadkari ने देश में प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिए इथेनॉल ईंधन के उत्पादन और Electric Vehicles की बिक्री के लिए नए लक्ष्यों की घोषणा की है।

सरकार ने इथेनॉल उत्पादन और EV की बिक्री के लिए रखा लक्ष्य, CNG वाहनों को भी मिलेगा बढ़ावा

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री Nitin Gadkari ने कहा कि फ्लेक्स-फ्यूल वाहन परिवहन क्षेत्र को कार्बन मुक्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। उन्होंने बताया कि सरकार अपने मौजूदा 20,000 करोड़ रुपये के आकार से 2 लाख करोड़ रुपये की इथेनॉल अर्थव्यवस्था का लक्ष्य रख रही है।

सरकार ने इथेनॉल उत्पादन और EV की बिक्री के लिए रखा लक्ष्य, CNG वाहनों को भी मिलेगा बढ़ावा

Nitin Gadkari ने कहा कि एक व्यापक इथेनॉल उद्योग के विकास का मतलब है कि देश के बायोमास और कृषि क्षेत्र के लिए नए बाजारों का विकास होगा, जो कि देश की अर्थव्यवस्था को बेहतर करने में मदद करेगा। इसके अलावा सरकार अन्य हरित ईंधनों की ओर भी कदम बढ़ा रही है।

सरकार ने इथेनॉल उत्पादन और EV की बिक्री के लिए रखा लक्ष्य, CNG वाहनों को भी मिलेगा बढ़ावा

Nitin Gadkari की माने तो बायो-CNG और ग्रीन हाइड्रोजन के इस्तेमाल से भी वायु प्रदूषण में कमी आने की उम्मीद है। CNG वाहनों को बढ़ावा देने के लिए भी केंद्र सरकार का लक्ष्य देश में 10,000 सीएनजी स्टेशन स्थापित करना है।

सरकार ने इथेनॉल उत्पादन और EV की बिक्री के लिए रखा लक्ष्य, CNG वाहनों को भी मिलेगा बढ़ावा

इसके अलावा सरकार की अन्य योजनाओं की बात करें तो साल 2030 तक निजी कारों के लिए 30 प्रतिशत, कमर्शियल वाहनों के लिए 70 प्रतिशत, बसों के लिए 40 प्रतिशत और दो-पहिया वाहनों और तीन पहिया वाहनों के लिए इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री में प्रवेश करना है।

सरकार ने इथेनॉल उत्पादन और EV की बिक्री के लिए रखा लक्ष्य, CNG वाहनों को भी मिलेगा बढ़ावा

आपको बता दें कि देश की राजधानी दिल्ली और आर्थिक राजधानी मुंबई में एक लीटर पेट्रोल की कीमत क्रमशः 103.54 रुपये और 109.54 रुपये तक हो गई है। इन दोनों शहरों में डीजल की कीमतें क्रमश: 92.12 रुपये और 99.92 रुपये हो गई हैं। ऐसे में इलेक्ट्रिक और इथेनॉल ईंधन से चलने वाले वाहन ही बेहतर विकल्प हैं।

सरकार ने इथेनॉल उत्पादन और EV की बिक्री के लिए रखा लक्ष्य, CNG वाहनों को भी मिलेगा बढ़ावा

आपको बता दें कि हाल ही में तेल निर्यात करने वाले ओपेक (OPEC) देशों ने कच्चे तेल के उत्पादन में वृद्धि नहीं करने के निर्णय लिया है, जिसके चलते अंतरराष्ट्रीय बाजार में प्रति बैरल कच्चे तेल की कीमत में 82 डॉलर तक पहुंच गई है। एक महीने पहले अंतरराष्ट्रीय बाजार में प्रति बैरल कच्चे तेल की कीमत 72 डॉलर थी।

Most Read Articles

Hindi
English summary
Indian govt sets targets for ethanol production and ev sales details
Story first published: Sunday, October 10, 2021, 9:00 [IST]
 
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X