Volkswagen T-Roc Deliveries Delayed: फॉक्सवैगन टी-रॉक की डिलीवरी में देरी की यह है असली वजह

फॉक्सवैगन (VOLKSWAGEN) ने भारत में मार्च 2020 टी-रॉक (T-ROC) को मार्च में लॉन्च किया था, इसकी पहली बैच बेचीं जा चुकी है। लेकिन अभी देश में फॉक्सवैगन टी-रॉक की डिलीवरी शुरू नहीं की जा चुकी है, अब इसकी असली वजह सामने आ गयी है।

Volkswagen T-Roc Delivery Delay: फॉक्सवैगन टी-रॉक डिलीवरी देरी कारण जानकारी

मीडिया सूत्रों के अनुसार फॉक्सवैगन टी-रॉक की डिलीवरी अभी तक शुरू नहीं हो पायी है उसकी वजह यह है कि इस कार को अभी तक एआरएआई सर्टिफिकेट नहीं मिल पाया है। कोरोना वायरस लॉकडाउन की वजह से इसमें देरी हो गयी है।

Volkswagen T-Roc Delivery Delay: फॉक्सवैगन टी-रॉक डिलीवरी देरी कारण जानकारी

कहा जा रहा है कि इस कार को टेस्टिंग के लिए जितनी दूरी की जरूरत है उतनी अभी पूरी नही हो पायी है। इस प्रोसेस को पूरा होने में करीब 15 - 20 दिन का समय लगता है। टेस्ट ड्राइव व डिलीवरी इस सर्टिफिकेट के मिलने के बाद ही शुरू की जा सकेगी।

MOST READ: कलेक्टर ने प्राइवेट कार में लगा रखी थी लाल बत्ती, पुलिस के रोकने पर दी गाली

Volkswagen T-Roc Delivery Delay: फॉक्सवैगन टी-रॉक डिलीवरी देरी कारण जानकारी

इसके इतर कंपनी के डीलर्स कह रहे थे कि देरी का कारण सॉफ्टवेयर इश्यू है। फॉक्सवैगन ने टी-रॉक को भारतीय बाजार में 19.99 लाख रुपये (एक्स-शोरूम) की कीमत पर उतारा है। इसकी डिजाइन की बात करें तो देखने में यह कार एसयूवी की तरह लगती है, लेकिन यह भारत में बिकने वाली सामान्य एसयूवी की तरह नहीं है।

Volkswagen T-Roc Delivery Delay: फॉक्सवैगन टी-रॉक डिलीवरी देरी कारण जानकारी

टी-रॉक में फुल एलईडी हेडलैंप और टेल-लाइट यूनिट का इस्तेमाल किया गया है। इसके अलावा इसमें डुअल-टोन एलॉय व्हील, 8.0-इंच का टच स्क्रीन इंफोटेनमेंस सिस्टम दिया गया है, जो कि एंड्रॉयड ऑटो और एप्पल कारप्ले को सपोर्ट करता है।

MOST READ: भारतीय सैनिकों ने चीन की सीमा के नजदीक चलाई बाइक, देखें वीडियो

Volkswagen T-Roc Delivery Delay: फॉक्सवैगन टी-रॉक डिलीवरी देरी कारण जानकारी

इंटीरियर की बात करें तो, फॉक्सवैगन टी-रॉक में 3 स्पोक स्टीयरिंग व्हील, डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर दिया गया है। इसके साथ ही विएना लेदर सीट लगाए गए है, इसके साथ ही पैनारोमिक सनरूफ, डुअल जोन क्लाइमेट कंट्रोल, की-लेस एंट्री व इंजन स्टार्ट/स्टॉप बटन दिए गए है।

Volkswagen T-Roc Delivery Delay: फॉक्सवैगन टी-रॉक डिलीवरी देरी कारण जानकारी

इसके इंजन की बात करें तो इस कार में 1.5-लीटर, 4-सिलेंडर, टर्बो-पेट्रोल टीएसआई इंजन इस्तेमाल किया गया है। यह इंजन 148 बीएचपी की पॉवर और 250 न्यूटन मीटर का टॉर्क प्रदान करता है। कंपनी ने इस इंजन के साथ 7-स्पीड डीएसजी गियरबॉक्स का इस्तेमाल किया है।

MOST READ: केजीएफ स्टार यश के पास है इन शानदार कारों का कलेक्शन, देखें

Volkswagen T-Roc Delivery Delay: फॉक्सवैगन टी-रॉक डिलीवरी देरी कारण जानकारी

इसकी लंबाई 4234 मिमी, चौड़ाई 1819 मिमी, ऊंचाई 1573 मिमी तथा व्हीलबेस 2590 मिमी रखी गयी है। भारत में इस कार की अच्छी मांग चल रही है जिस वजह इसे पहला बैच बेचा जा चुका है। कंपनी ने कहा था कि अगर अच्छी बिक्री होगी तो इसका उत्पादन लोकल रूप से किया जा सकता है।

Most Read Articles

Hindi
English summary
Volkswagen T-Roc Delivery Delay Reason. Read in Hindi.
 
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X