जियो-फेंसिंग के माध्यम से हरियाणा पुलिस कर रही है पीसीआर वाहनों की निगरानी

इस बात पर भी निगरानी की जा रही है कि पुलिस किसी कॉल पर कितनी जल्दी कार्रवाई करती है। जियो-फेंसिंग और डिजिटल रिकॉर्डिंग से यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि पीसीआर वैन अपने निर्धारित क्षेत्रों से बाहर न निकलें या एक स्थान पर तैनात न रहें। इन वाहनों की आवाजाही पर नजर रखने के लिए 24x7 नियंत्रण कक्ष भी स्थापित किया गया है।

जियो-फेंसिंग के माध्यम से हरियाणा पुलिस कर रही है पीसीआर वाहनों की निगरानी

इस बात पर भी निगरानी की जा रही है कि पुलिस किसी कॉल पर कितनी जल्दी कार्रवाई करती है। जियो-फेंसिंग और डिजिटल रिकॉर्डिंग से यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि पीसीआर वैन अपने निर्धारित क्षेत्रों से बाहर न निकलें या एक स्थान पर तैनात न रहें। इन वाहनों की आवाजाही पर नजर रखने के लिए 24x7 नियंत्रण कक्ष भी स्थापित किया गया है।

जियो-फेंसिंग के माध्यम से हरियाणा पुलिस कर रही है पीसीआर वाहनों की निगरानी

पुलिस ने दावा किया है कि इस कदम से पीसीआर वैन अपने निर्धारित क्षेत्रों में दिखाई दे रहे हैं, जिससे कई इलाकों में किसी वारदात के समय पुलिस समय पर पहुंच रही है और बड़े वारदातों पर रोक लग रही है।

MOST READ: एमजी ग्लोस्टर को 24 सिंतबर को भारत में किया जाएगा पेश

जियो-फेंसिंग के माध्यम से हरियाणा पुलिस कर रही है पीसीआर वाहनों की निगरानी

अधिकारियों ने बताया कि प्रत्येक वाहन से जुड़ा जीपीएस अपनी लाइव लोकेशन प्रदान करता है और अगर कोई वैन सौंपी गई डिजिटल सीमा को पार करती है तो वह कंट्रोल रूम को अलर्ट भेज देती है। चूंकि वैन को हमेशा ट्रैक किया जा रहा है, इससे यह भी सुनिश्चित करेगा कि वे वारदात के समय किस स्थान पर हैं।

जियो-फेंसिंग के माध्यम से हरियाणा पुलिस कर रही है पीसीआर वाहनों की निगरानी

हरियाणा पुलिस द्वारा यह कदम कदम देश भर में पहला उदाहरण है। इस सिस्टम को पिछले महीने शहर में लॉन्च किया गया था। प्रत्येक वाहन में जीपीएस सिस्टम लगाने का निर्णय शिकायतों के बाद लिया गया था कि कई पीसीआर वैन और बाइक अक्सर गश्त के लिए बाहर जाने के बिना एक स्थान पर खड़ी पाई जाती हैं।

MOST READ: टाटा टियागो के 3 लाख यूनिट का उत्पादन सानंद प्लांट में हुआ पूरा

जियो-फेंसिंग के माध्यम से हरियाणा पुलिस कर रही है पीसीआर वाहनों की निगरानी

पुलिस के अनुसार गश्ती टीमों की बढ़ती उपस्थिति से अपराध में निपटने में मदद मिल रही है। पुलिस से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार, पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में अगस्त तक हत्या और हत्या के प्रयास जैसे अपराधों में 23.4% गिरावट देखी गई है।

जियो-फेंसिंग के माध्यम से हरियाणा पुलिस कर रही है पीसीआर वाहनों की निगरानी

2019 (अगस्त तक) में, 78 हत्या के मामले सामने आए थे, लेकिन इस साल यह संख्या घटकर 58 रह गई है। इसी तरह स्नैचिंग, लूट और डकैती के मामलों में भी 48.3% की कमी आई है जबकि वाहन चोरी में 61.9% की गिरावट आई है। अवैध हथियारों से संबंधित मामलों में 11% गिरावट देखी गई है।

Most Read Articles

Hindi
English summary
Haryana police using GPS geo fencing to track PCR vehicles details. Read in Hindi.
Story first published: Tuesday, September 22, 2020, 17:09 [IST]
 
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X