पुणे से आई है चौंका देनेवाली खबर - वाहनों की संख्या शहर की जनसंख्या से भी ज्यादा

Written By: Abhishek Dubey

महाराष्ट्र के पुणे से चौंका देनेवाली खबर सामने आई है। इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक यहां कुल वाहनों की संख्या शहर की जनसंख्या को भी पार कर चुकी है। यह पहली बार है जब देश के किसी शहर में वाहनों की संख्या जनसंख्या से भी ज्यादा है।

पुणे से आई है चौंका देनेवाली खबर - वाहनों की संख्या शहर की जनसंख्या से भी ज्यादा

क्षेत्रीय यातायात कार्यालय (आरटीओ) के प्रमुख बाबासाहेन आजरी के मुताबिक 'शहर की कुल जनसंख्या लगभग 35 लाख के आसपास है जबकि पंजीकृत वाहनों की संख्या 36.2 लाख को पार कर चुकी है।'

पुणे से आई है चौंका देनेवाली खबर - वाहनों की संख्या शहर की जनसंख्या से भी ज्यादा

समाचार एजेंसी आईएएनएस को आजरी ने बताया कि इस साल 31 मार्च 2018 तक आरटीओ में 2,80,000 वाहन पंजीकृत किए गए हैं।

पुणे से आई है चौंका देनेवाली खबर - वाहनों की संख्या शहर की जनसंख्या से भी ज्यादा

इससे वाहनों की संख्या 2016-17 के 33.37 लाख के मुकाबले 2017-18 में 36.27 लाख हो चुकी है। इनमें सबसे ज़्यादा तादाद दो-पहिया वाहनों की है।

पुणे से आई है चौंका देनेवाली खबर - वाहनों की संख्या शहर की जनसंख्या से भी ज्यादा

पंजीकृत दो-पहिया वाहनों की संख्या अब 27.03 लाख हो गई जो पहले 24.97 लाख थी। जबकि चार-पहिया पंजीकृत वाहन 5.89 से बढ़कर 6.45 लाख हो गए हैं।

पुणे से आई है चौंका देनेवाली खबर - वाहनों की संख्या शहर की जनसंख्या से भी ज्यादा

आजरी के मुताबिक ज़ाहिर तौर पर वाहनों की बढ़ती तादाद से आरटीओ का राजस्व भी बढ़ा है। वित्त वर्ष 2017-18 के लिए आरटीओ ने 862.32 करोड़ रुपए के राजस्व का लक्ष्य रखा था लेकिन उससे ज़्यदा 1,021.56 करोड़ रुपए हासिल हुए हैं।

पुणे से आई है चौंका देनेवाली खबर - वाहनों की संख्या शहर की जनसंख्या से भी ज्यादा

वे बताते हैं कि खास तौर पर युवा पेशेवर अब अपनी कार खरीदने के बजाय टैक्सी में सफ़र करने का प्राथमिकता दे रहे हैं। इसका संकेत आरटीओ में बड़ी तादाद में टैक्सी के तौर पर पंजीकृत हुए चार-पहिया वाहनों से मिलता है।

पुणे से आई है चौंका देनेवाली खबर - वाहनों की संख्या शहर की जनसंख्या से भी ज्यादा

टैक्सी श्रेणी में पंजीकृत होने वाले वाहनों की तादाद 2017-18 में 25 फीसदी तक बढ़ी है।

पुणे से आई है चौंका देनेवाली खबर - वाहनों की संख्या शहर की जनसंख्या से भी ज्यादा

स्वभाविक है कि पूणे में वाहनों की तादाद बेतहाशा बढ़ने से शहर में ट्रैफिक की समस्या भी बढ़ी है। इससे शहर में प्रदूषण भी बढ़ रहा है।

पुणे से आई है चौंका देनेवाली खबर - वाहनों की संख्या शहर की जनसंख्या से भी ज्यादा

पूणे की ये समस्या मात्र पूणे की नहीं है। देश के तमाम बड़े शहरों की यही हालत है। चाहे मुंबई हो या दिल्ली, बैंगलोर हो या कोलकाता सभी शहरों में ट्रैफिक की भयंकर समस्या है।

पुणे से आई है चौंका देनेवाली खबर - वाहनों की संख्या शहर की जनसंख्या से भी ज्यादा

शहरों में होनेवले प्रदूषण में इन गाड़ियों का बड़ा हाथ रहता है। गौरतलब है कि देश की राजधानी दिल्ली में 10 वर्ष से ज्यादा पूरानी डीजल गाड़ियों को धीरे-धीरे बैन किया जा रहा है।

पुणे से आई है चौंका देनेवाली खबर - वाहनों की संख्या शहर की जनसंख्या से भी ज्यादा

वायु प्रदूषण से ही निपटने के लिए दिल्ली सरकार ऑड-इवन स्कीम लाई थी। यदि शहरों में ट्रांसपोर्ट सिस्टम को व्यवस्थित किया जाए और मेट्रो और ईलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा दिया जाए तो गाड़यों से होनेवाले प्रदूषण औप ट्रैफिक की समस्या को कुछ हद तक कम किया जा सकता है।

Read more on #auto news
English summary
Number of vehicles in Pune overtakes human population. Read full news in Hindi.
Story first published: Saturday, April 7, 2018, 12:09 [IST]

Latest Photos

 

ड्राइवस्पार्क से तुंरत ऑटो अपडेट प्राप्त करें - Hindi Drivespark

We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Drivespark sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Drivespark website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more