खराब फ्यूल पम्प के चलते मारुति ने वापस लिया सुपर कैरी एलसीवी

देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारु​ति सुजुकी ने अपनी सुपर कैरी एलसीवी (लाइट कमर्शियल व्हीकल) को कुछ तकनीकी खराबियों के चलते वापस लेने का फैसला किया है। इसके लिए कंपनी ने आधिकारिक रूप से 5,900 सुपर कैरी एलसीवी को रिकॉल्ड किया है। इस बारे में जानकारी देते हुए कंपनी ने बताया कि देश भर से तकरीबन 5,900 सुपर कैरी एलसीवी को रिकॉल्ड किया गया है। इन वाहनों के फ्यूल फिल्टर में कुछ खराबी के चलते इन्हें कंपनी द्वारा वापस लिया गया है। आपको बता दें कि, बीते 26 अप्रैल से लेकर 1 अगस्त के बीच में जिन वाहनों की मैन्युफैक्चरिंग की गई है ये समस्या उन्हीं में पाई गई है।

खराब फ्यूल पम्प के चलते मारुति ने वापस लिया सुपर कैरी एलसीवी

इसके अलावा इस पीरियड में जिन वाहनों के फ्यूल फिल्टर में बदलाव किया गया है वो भी इस रिकॉल में शामिल हैं। कंपनी ने बताया कि, ये रिकॉल आगामी आज से शुरू कर दी गई है और इस संदर्भ में सभी सुपर कैरी एलसीवी मालिकों को सूचित भी कर दिया गया है। इसके लिए कंपनी के डीलरशिप ने सीधे तौर पर वाहन मालिकों से संपर्क किया और उनके वाहनों को चेकिंग के लिए बुलवाया है। कंपनी ने बताया कि इस दौरान जो भी रिप्लेसमेंट किया जायेगा वो बिलकुल मुफ्त होगा।

खराब फ्यूल पम्प के चलते मारुति ने वापस लिया सुपर कैरी एलसीवी

मारुति सुजुकी ने बताया कि, यदि कोई ग्राहक ये जानना चाहता है कि उसका वाहन इससे प्रभावित है या नहीं तो इसके लिए कंपनी की आधिकारिक वेबसाइट पर जानकारी उपलब्ध कराई गई है। इसके के लिए उक्त वाहन मालिक को कंपनी की वेबसाइट पर अपने वाहन का चेचिस नंबर डालना होगा जिसके बाद उसे इस बात की जानकारी हो जायेगी कि उसका वाहन इस समस्या से प्रभावित है या नहीं। मारुति सुजुकी ने जानकारी दी है कि ये रिकॉल एक्सपोर्ट किये गये सुपर कैरी एलसीवी पर भी लागू है। आपको बता दें कि, मारुति सुजुकी इस वैन को दक्षिण अफ्रिका और तंजानिया जैसे देशों में एक्सपोर्ट भी करती है।

खराब फ्यूल पम्प के चलते मारुति ने वापस लिया सुपर कैरी एलसीवी

पिछले चार महीनों में कंपनी ने ये दूसरी बार अपनी सुपर कैरी एलसीवी को रिकॉल किया है। इसके पहले कंपनी ने बीते अक्टूबर माह में रिकॉल किया था। उस वक्त कुल 640 युनिट को कंपनी रिकॉल किया था। उस दौरान कंपनी ने बताया था कि इन वाहनों में गलत फ्यूल पंप का इस्तेमाल हुआ था जिससे ग्राहकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। इसकी शिकायत कई वाहन मालिकों ने अपने डीलरशिप पर भी की थी। जिसके बाद कंपनी ने इस मामले को संज्ञान में लिया था। जिसके बाद वाहनों को रिकॉल करने का फैसला किया गया था। अब एक बार फिर से इस एलसीवी में कुछ समस्याएं सामने आई हैं।

खराब फ्यूल पम्प के चलते मारुति ने वापस लिया सुपर कैरी एलसीवी

मारुति सुजुकी सुपर कैरी एलसीवी रिकॉल पर ड्राइवस्पार्क के विचार:

आपको बता दें कि, मारुति सुजुकी सुपर कैरी एलसीवी अपने सेग्मेंट में खासी लोकप्रिय लाइट कमर्शियल व्हीकल है। अपने आकार और इंजन क्षमता के चलते ये वाहन बहुउपयोगी है। इसका प्रयोग ज्यादातर व्यवसायी माल ढुलाई के लिए करते हैं। भारतीय बाजार में ये एससीवी टाटा एस को कड़ी टक्कर देता है। तो यदि आप भी इस वाहन के स्वामी हैं तो आप भी अपने नजदीकी डीलर से संपर्क कर इस बात की तस्दीक कर सकते हैं कि क्या आपका वाहन इस रिकॉल का हिस्सा है या नहीं।

खराब फ्यूल पम्प के चलते मारुति ने वापस लिया सुपर कैरी एलसीवी

इसके अलावा आप कंपनी की आधिकारिक वेबसाइट से भी महज अपने वाहन का चेचिस नंबर डाल कर भी पता कर सकते हैं। कंपनी ने इस बार सबसे ज्यादा मात्रा में रिकॉल किया है। मारुति सुजुकी इस तकनीकी खराबी को निशुल्क ठीक करेगी।

Hindi
English summary
Maruti Suzuki has recalled over 5,900 units of their Super Carry LCV in India. The Maruti Super Carry light commercial vehicle has been issued with a voluntary recall over a possible fault in its fuel filter. Read in Hindi.
Story first published: Wednesday, December 26, 2018, 15:05 [IST]
 

ड्राइवस्पार्क से तुंरत ऑटो अपडेट प्राप्त करें - Hindi Drivespark

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Drivespark sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Drivespark website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more