India में इस तरीके से सड़क दुर्घटनाओं का निकल सकता है समाधान?

Written By:

क्या आप जानते हैं कि जर्मनी के कंजस्टेड एरियाज में भी वाहन चालकों की अधिकतम गति सीमा पर कोई प्रतिबंध नहीं है। साल 2006 में, जर्मन राज्य ब्रेंडेनबर्ग में 142 किमी / घंटे की औसत गति से चलने के लिए 6 लेन अनुभाग का गठन किया गया।

To Follow DriveSpark On Facebook, Click The Like Button
India में इस तरीके से सड़क दुर्घटनाओं का निकल सकता है समाधान?

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की एक रिपोर्ट के मुताबिक सड़क यातायात में दुर्घटनाओं की रोकथाम और सड़क पर होने वाली मौतों में कमी के लिए कई गति नियंत्रको की पहचान की गई।

India में इस तरीके से सड़क दुर्घटनाओं का निकल सकता है समाधान?

लेकिन यहां सवाल उठता है कि क्या भारतीय सड़के इसके लिए उपय़ुक्त हैं तो आपको बता दें कि ऐसा नहीं है। दरअसल भारत में अधिकांश सड़कों को केवल 100 किमी / घंटा की अधिकतम गति लेने के लिए ही डिज़ाइन किया गया है।

India में इस तरीके से सड़क दुर्घटनाओं का निकल सकता है समाधान?

इसी कारण हमारे देश की सड़कों पर बसों, कारों और बाइक के उपयोग में वृद्धि के साथ मौतों का कारण बन रही है। इसके साथ ही इन दुर्घटनाओं के लिए वाहनों की डिजायन भी जिम्मेदार है।

India में इस तरीके से सड़क दुर्घटनाओं का निकल सकता है समाधान?

द हिन्दू के साथ एक साक्षात्कार के अनुसा उप परिवहन आयुक्त एस वेंकटेश्वर राव ने कहा कि परिवहन विभाग भारत में बेचे जाने वाले वाहनों की गति को प्रतिबंधित करने के लिए स्केनिया, वोल्वो और बेंज जैसे आयातित बसों के निर्माताओं से संपर्क करने की योजना बना रहा है। यह एक गति विनियमन तंत्र है, और यह आसानी से निर्माता अपने स्तर पर बदल सकता है।

India में इस तरीके से सड़क दुर्घटनाओं का निकल सकता है समाधान?

उन्होंने कहा कि वाहन निर्माता को ऊपरी सीमा को कम करना होगा और खरीदार को एक प्रमाण पत्र जारी करना होगा कि बस की गति निर्धारित मानदंडों के अनुसार विनियमित की गई है। गति को बाहरी पोर्ट परपर रणनीतिक बिंदुओं पर स्थापित गति से मापा जाएगा।

India में इस तरीके से सड़क दुर्घटनाओं का निकल सकता है समाधान?

पुलिस विभाग द्वारा स्पीड बंदूकें खरीदी जा रही हैं जो प्रभावी है और वाहन नंबर, गति और वाहन की स्थिति को पकड़ लेती हैं और अनुदैर्ध्य और अक्षांशयुक्त पदों के अलावा 'निर्देशांक' भी दे सकती हैं। तकनीक के साथ, अदालत में विवरण प्रस्तुत किए जाने पर कोई भी कानून से बच नहीं सकता।

India में इस तरीके से सड़क दुर्घटनाओं का निकल सकता है समाधान?

मोटर वाहन निरीक्षक एम. बटी राजू ने कहा कि सरकार को निर्माताओं के साथ इस मुद्दे को उठाना चाहिए और कारखाने के स्तर पर गति को नियंत्रित करना चाहिए।

English summary
Almost all the Indian roads are designed to take vehicle speeds of not more than 100 km/hr.
Please Wait while comments are loading...

Latest Photos