इलेक्ट्रिक कारों के लिए बैटरी लागत में कटौती की है आवश्यकता

Written By:

भारत में इलेक्ट्रिक कारों की बैटरी की लागत में कटौती की आवश्यकता है। यह बात नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहते हुए जोर दिया कि इलेक्ट्रिक कारों में इस्तेमाल होने वाली बैटरी की लागत को कम करने के लिए एक तकनीकी सफलता हासिल करने की आवश्यकता है।

इलेक्ट्रिक कारों के लिए बैटरी लागत में कटौती की है आवश्यकता

आठवें वैश्विक उद्यमिता शिखर सम्मेलन -2017 में गेस्ट के तौर पर आए नीति आयोग के सीईओ कांत ने कहा कि सभी बातों के बावजूद, वर्तमान में इलेक्ट्रिक वाहनों की कुल संख्या केवल एक प्रतिशत है जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि उत्सर्जन की मात्रा अब भी कितने बड़े स्तर पर है।

इलेक्ट्रिक कारों के लिए बैटरी लागत में कटौती की है आवश्यकता

उन्होंने कहा कि एक बार जब बैटरी की कीमत गिरती है, तो इलेक्ट्रिक कार की कीमत आंतरिक दहन कार के बराबर होगी। इसलिए चुनौती बैटरी (प्रौद्योगिकी) में सफल बनाने में निहित है। कार बैटरी चार्जिंग सेवा में एकाधिकार नहीं होना चाहिए, और इसके लिए, इंटर-ऑपरेटिव चार्जिंग स्टेशन स्थापित किए जा सकते हैं।

इलेक्ट्रिक कारों के लिए बैटरी लागत में कटौती की है आवश्यकता

भारत ने कार निर्माताओं के लिए एक बड़ा अवसर प्रस्तुत किया गय़ा है क्योंकि देश में विकसित देशों की तुलना में प्रति व्यक्ति कार मालिकाना बहुत कम है। भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए पर्याप्त बिजली पैदा करने की क्षमता है क्योंकि देश सौर ऊर्जा की ओर बढ़ना है।

Recommended Video - Watch Now!
2017 महिन्द्रा स्कार्पियो भारत में हुई लॉन्च
इलेक्ट्रिक कारों के लिए बैटरी लागत में कटौती की है आवश्यकता

हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि भारत अभी भी ड्राइवरहीन कारों के लिए तैयार नहीं है। नीति आयोग के सीईओ ने कहा कि मैं शेयरिंग कारों का समर्थक हूं मेरी रूचि कार चलाने में नहीं है। नौकरियों की प्रकृति बदल रही है, इसलिए कार्य प्रकृति का बदलाव भी भविष्य में हो सकता है।

DriveSpark की राय

DriveSpark की राय

भारत सरकार साल 2030 तक भारत से डीजल और पेट्रोल वाहनों को खत्म कर देना चाहती है और नीति आयोग के सीईओ ने उसी योजना को आगे बढ़ाने की दिशा में अपनी यह राय रखनी है। पिछले कई दिनों से नीति आयोग भी इलेक्ट्रकि वाहनों की दिशा में कार्य कर रही है।

English summary
India presents a huge opportunity to car makers as the per capita car ownership in the country is very low, compared to some of the developed countries, he said.

Latest Photos

 

ड्राइवस्पार्क से तुंरत ऑटो अपडेट प्राप्त करें - Hindi Drivespark

We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Drivespark sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Drivespark website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more