एक महीने के अंदर जीप कम्पास को मिला कुछ ऐसा रिस्पांस

By Deepak Pandey

फिएट क्रास्लर ऑटोमोबाइल (एफसीए) ने अपने ग्रैंड चेरोकी और रैंगलर एसयूवी के लॉन्च के साथ भारत में प्रवेश किया, जिसकी कीमतें ज्यादा रही। इन दोनों मॉडलों ने एफसीए के लिए कंपनी के एक प्रीमियम ब्रांड इमेज बनाने का मौका दिया। हालांकि, यह बड़ी बिक्री में परिवर्तित नहीं हो सका।

एक महीने के अंदर जीप कम्पास को मिला कुछ ऐसा रिस्पांस

लेकिन लगता है अब जीप कम्पास के साथ यह सब कुछ बदल गया है। एफसीए ने इस गाड़ी को एक्स-शोरूम के हिसाब से 14.95 लाख भारत में शुभारंभ किया था। इस एसयूवी की कीमत ऐसी रही कि लोगों के साथ प्रतिद्वंदी भी हैरान हो गए है।

एक महीने के अंदर जीप कम्पास को मिला कुछ ऐसा रिस्पांस

इकोनामिक्स टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में जीप कम्पास को 8,100 यूनिट्स की बुकिंग मिली है। इसका उत्पादन पुणे के बाहरी इलाके रंजगांव में किया गया है। यह पूरी तरह से भारत में निर्मित एसयूवी है। इस संयंत्र में वाहन की मांग के हिसाब से इसका निर्माण किया जा रहा है।

एक महीने के अंदर जीप कम्पास को मिला कुछ ऐसा रिस्पांस

बताया जा रहा है कि लगभग एक दशक पहले शुरू हुए इस संयंत्र में इस बुकिंग के कारण काम बढ़ गया है। एफसीए सिर्फ दो या तीन महीने दूर भारत में ज्यादा आय बनाने से सुविधा में निवेश किया है।

रंजगांव संयंत्र वर्तमान में जीप कॉम्पास और टाटा मोटर्स के नेक्सन कॉम्पैक्ट एसयूवी का निर्माण करता है। नेक्सन सितंबर 2017 में शुरू होने की उम्मीद है।

एक महीने के अंदर जीप कम्पास को मिला कुछ ऐसा रिस्पांस

एफसीए को जीप कॉम्पास के लिए 8,171 ऑर्डर मिले हैं, जो कि 1,570 करोड़ रुपये (245 मिलियन डॉलर) का मूहै। कंपनी ने इस सुविधा में $ 280 मिलियन का निवेश किया है और एफसीए ब्रेक-पॉइंट तक पहुंचने से पहले यह समय की एक बात है।

एक महीने के अंदर जीप कम्पास को मिला कुछ ऐसा रिस्पांस

रिपोर्ट के मुताबिक एफसीए 25 प्रतिशत अधिक उत्पादन की ओर काम कर रहा है। यह एक दिन में जीप कम्पास के 90 इकाइयों का उत्पादन कर रहा है और एसयूवी की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए प्रति दिन 110 तक बढ़ाना चाहता है।

Drivespark की राय

Drivespark की राय

जीप कम्पास की सफलता का सबसे महत्वपूर्ण पहलू इसकी प्रीमियम कीमतें है। जीप कम्पास ने भारतीय बाजार में जल्द ही अपनी जगह बना ली है और अब इस सेगमेंट में वह नेतृत्व करेगी।

Read more on #जीप #jeep
English summary
This is evident with the bookings of 8,100 units for the Jeep Compass in India as reported by ET. Fiat India Automobiles, a joint venture between Tata Motors and FCA, owns a manufacturing plant at Ranjangaon on the outskirts of Pune and is increasing its production capacity to address the demand.
Story first published: Saturday, August 26, 2017, 17:50 [IST]
 
X

ड्राइवस्पार्क से तुंरत ऑटो अपडेट प्राप्त करें - Hindi Drivespark

We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Drivespark sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Drivespark website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more