शेवरले बीट बनी भारत से सबसे ज्यादा एक्सपोर्ट होने वाली कार, इस साल हुए कई फेरबदल

By Deepak Pandey

पिछले कुछ सालों में, भारत कई कंपनियों के लिए एक वैश्विक निर्माण केंद्र बन गया है। कई प्रमुख कंपनियां भारत से विदेशी बाजारों में अपने उत्पादों का निर्यात करती हैं।

जिसकी कड़ी में हाल ही में आई इकोनामिक्स टाइम्स की एक रिपोर्ट का कहना है कि शेवरले बीट वित्तीय वर्ष 2018 की पहली छमाही में सबसे अधिक निर्यातित कार है।

शेवरले बीट बनी भारत से सबसे ज्यादा एक्सपोर्ट होने वाली कार, इस साल हुए कई फेरबदल

आपको बता दें कि जनरल मोटर्स ने हाल ही में भारतीय बाजार से अपना सामान पैक किया है, लेकिन यह अभी भी भारत में कुछ कारों का उत्पादन करता है। चालू वित्त वर्ष के पहले छह महीनों में जनरल मोटर्स ने बीट की 45,222 इकाइयां निर्यात कीं। यह कार भारत में बिक्री पर भी नहीं है।

शेवरले बीट बनी भारत से सबसे ज्यादा एक्सपोर्ट होने वाली कार, इस साल हुए कई फेरबदल

यह अमेरिकी ऑटोमेकर भारत से शेवरले बीट का निर्यात करता है जो पुणे के पास तलेगाँव संयंत्र में निर्मित होता है। निर्यात बाजारों में चिली, मध्य अमेरिका, पेरू और अर्जेंटीना शामिल हैं। नई अपडेटबीट भारतीय बाजार में शुरू किया जाना था, लेकिन फिर जनरल मोटर्स ने दुनिया के उभरते बाजारों में से एक को छोड़ने का फैसला किया।

शेवरले बीट बनी भारत से सबसे ज्यादा एक्सपोर्ट होने वाली कार, इस साल हुए कई फेरबदल

इसके बाद फॉक्सवैगन वेंटो भारत की दूसरी सबसे अधिक निर्यातित कार है। इस जर्मन निर्माता ने चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में सेडान की 41,430 इकाइयों को निर्यात किया।

शेवरले बीट बनी भारत से सबसे ज्यादा एक्सपोर्ट होने वाली कार, इस साल हुए कई फेरबदल

इस खबर का दिलचस्प पहलू यह है कि फोर्ड इकोस्पोर्ट शीर्ष स्थान खो गया और तीसरे स्थान पर पहुंच गया। अमेरिकी ऑटोमेकर ने कॉम्पैक्ट एसयूवी के 39, 9 35 इकाइयों को निर्यात किया। फोर्ड भारत से फिगो हैचबैक और फिगो अस्पायर कॉम्पैक्ट सेडान का भी निर्यात करता है।

शेवरले बीट बनी भारत से सबसे ज्यादा एक्सपोर्ट होने वाली कार, इस साल हुए कई फेरबदल

दोनों मॉडल ने अपनी स्थिति में सुधार किया। कंपनी ने फिगो के 26,331 यूनिट और फिगो अस्पायर के 16,081 यूनिट्स का निर्यात किया। हुंडई के क्रेता और ग्रैंड I10 ने पिछले वर्ष में अपने पांचवें और छठे स्थान को बरकरार रखा था।

शेवरले बीट बनी भारत से सबसे ज्यादा एक्सपोर्ट होने वाली कार, इस साल हुए कई फेरबदल

कोरियाई कार निर्माता ने भारत से क्रेता के 25, 9 40 यूनिट और ग्रैंड आई 10 की 1 9, 71 9 इकाइयों का निर्यात किया। निसान माइकरा पिछले वित्तीय वर्ष से अपना दूसरा स्थान खो गया और नीच दसवें स्थान पर पहुंच गया।

शेवरले बीट बनी भारत से सबसे ज्यादा एक्सपोर्ट होने वाली कार, इस साल हुए कई फेरबदल

निर्यात में गिरावट का मुख्य कारण भारत से फ्रांस तक विनिर्माण आधार का स्थानांतरण है। जापानी फर्म ने हैचबैक की 13,59 9 इकाइयां निर्यात कीं। कंपनी ने भारत से 13,847 सनी निर्यात भी की, जो नौवें स्थान पर है। मारुति सुजूकी ने 18.86 बिलोनों का निर्यात किया और सातवे स्थान रखा।

DriveSpark की राय

DriveSpark की राय

भारत कई कंपनियों के लिए एक वैश्विक निर्यात केंद्र बन गया है जो मेक इन इंडिया पहल के तहत है। शेवरले बीट ने सूची में सबसे ऊपर है, लेकिन यह कार भारत में नहीं बेची जाती है।

आंकड़ों को देखकर, हमें लगता है कि यदि ऑटोमेकर ने नई बीट इन इंडिया को पेश किया है, तो इसमें काफी सारे खरीदारों को आकर्षित किया होगा। लेकिन दुर्भाग्य से जनरल मोटर्स ने भारतीय बाजार में दुकान बंद करने का फैसला किया।

English summary
Now, ETAuto reports that the Chevrolet Beat is the most exported car in the first half of the financial year 2018. General Motors recently packed its bags from the Indian market, but it still produces few cars in India for exporting purpose.
भारत का अब तक का सबसे बड़ा राजनीतिक पोल. क्या आपने भाग लिया?
 
X

ड्राइवस्पार्क से तुंरत ऑटो अपडेट प्राप्त करें - Hindi Drivespark

We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Drivespark sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Drivespark website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more