पहली बार भारत से डीजल इंजन को एक्सपोर्ट करेगा होंडा

Written By:

जापानी कार निर्माता होंडा कार्स इंडिया पहली बार राजस्थान में अपने तापुकारा संयंत्र से पूरी तरह से 1.6 लिटर डीजल इंजन को निर्यात करेगी। पहले होंडा भारत में 1.6 लीटर डीजल इंजन का उत्पादन करेगा। वर्तमान में ऐसा कोई उत्पाद नहीं है जो घरेलू बाजार में इस मिल से संचालित होता है। कंपनी जुलाई 2017 से निर्यात शुरू कर देगी।

खबरों के मुताबिक थाईलैंड 1.6 लीटर डीजल इंजन बनाने वाला पहला बाजार होगा, जहां होंडा के पास वाहन के प्लेटफार्मों के डिजाइन, विकास और विनिर्माण के लिए एक बड़ा उत्पादन स्थापित किया गया है। भारत की तरह, थाईलैंड भी एक बड़ा मोटर वाहन बाजार है और इसलिए वहां एक बड़ी विस्थापन डीजल इकाई की आवश्यकता है।

होंडा के अधिकारियों ने एक हालिया बातचीत में बताया कि होंडा के मैनुअल गियरबॉक्स और डीजल इंजन के लिए भारत का तापुकारा संयंत्र सबसे बड़ा विनिर्माण सुविधा है। यह सुविधा विश्व स्तर पर मैनुअल गियरबॉक्स के लिए भी सबसे बड़ा निर्यातक है।

वर्तमान में, तापुकारा संयंत्र में प्रतिवर्ष 1.8 लाख इंजनों का उत्पादन करने की क्षमता है और 1.2-लाइट और 1.5 लीटर पेट्रोल और 1.5 लीटर डीजल इकाई बनाती है, जो कि इसके सिटी, अमेज और जाज मॉडल को अन्य लोगों के साथ मिलती है।

2013 में जब होंडा ने तापुकारा में डीजल पावरट्र्रेन डिवीजन स्थापित किया था, तो होंडा अपनी 1.6 लीटर डीजल यूनिट की कारों के इंजन को यूके से सिविक और सीआर-वी को पावर करने के लिए निर्यात कर रही हैं। अन्य महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय बाजारों में उत्तरी अमेरिका, दक्षिण अमेरिका, जापान और दक्षिण पूर्व एशिया शामिल हैं।

DriveSpark की राय

भारत कीमतों के मामले में प्रभावी होने के कारण विनिर्माण इंजन और पार्ट्स के लिए एक रणनीतिक स्थान रहा है। होंडा कारें भारत के साथ 1.6 लीटर डीजल इंजन निर्यात कर रही हैं। अब इस कदम से देश वैश्विक बाजारों के लिए डीजल पावरट्रेन के लिए केंद्र बन सकता है।

Read more on #होंडा #honda
English summary
Honda Cars India, the Indian arm of Japanese carmaker, will for the first time export fully assembled 1.6-litre diesel engines from its Tapukara plant in Rajasthan.
Story first published: Thursday, June 22, 2017, 11:32 [IST]
Please Wait while comments are loading...

Latest Photos