जीएसटी के कारण परिवहन बसों की कीमतों में होगी वृद्धि

Written By:

भारत सरकार 1 जुलाई 2017 से माल और सेवा कर (जीएसटी) को लागू करेगी। नई कराधान नीतियों की वजह से परिवहन बसों की कीमत में वृद्धि होगी। भारतीय सरकार ने परिवहन बसों पर 28 प्रतिशत की मौजूदा जीएसटी दर से 15 प्रतिशत की कटौती करने का निर्णय लिया है। अब, सार्वजनिक परिवहन वाहन हाइब्रिड वाहनों और लक्जरी कारों के समान टैक्स स्लैब में आते हैं।

जीएसटी के कारण परिवहन बसों की कीमतों में होगी वृद्धि

वित्त मंत्रालय की नवीनतम अधिसूचना के अनुसार, ड्राइवर सहित दस या अधिक व्यक्तियों को परिवहन करने वाले मोटर वाहनों को 15 प्रतिशत सेस के रूप में आकर्षित किया जाएगा। कुल कर की दर 43 प्रतिशत है। वर्तमान में, परिवहन बसों पर कर की दर 27.8 प्रतिशत है। सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (सियाम) ने कहा कि जीएसटी टैक्स दर सार्वजनिक परिवहन में बाधा पड़ेगी।

जीएसटी के कारण परिवहन बसों की कीमतों में होगी वृद्धि

सियाम के महासंचालक विष्णु माथुर ने कहा कि सरकार वायु प्रदूषण को कम करने के लिए देश में सार्वजनिक परिवहन के विस्तार के बारे में बोल रही है, इसलिए बसों पर कर बढ़ाकर वह अपनी स्वयं की स्थिति के खिलाफ हो रही है।

जीएसटी के कारण परिवहन बसों की कीमतों में होगी वृद्धि

इससे पहले, जीएसटी परिषद ने हाइब्रिड वाहनों की कर दरों को बढ़ाकर 43 प्रतिशत कर दिया। अब एक ही इलाज सार्वजनिक परिवहन क्षेत्र को दिया गया है। कई कंपनियां ने 18 प्रतिशत तक कर को कम करने का आग्रह किया था, लेकिन कोई बदलाव नहीं किया गया है।

DriveSpark की राय

DriveSpark की राय

सरकार उत्सर्जन के स्तर को कम करने के लिए सार्वजनिक परिवहन के उपयोग को प्रोत्साहित करती है। लेकिन जीएसटी कर स्लैब विपरीत दिशा में बढ़ रहा है। हालांकि अभी तो बहुत कुछ उथल पुथले होना है। आप देखते रहिए।

Read more on #commercial vehicles
English summary
The Government of India will implement the Goods and Service Tax (GST) from July 1, 2017. The new taxation policy will increase the price of the transport buses.
Story first published: Friday, June 30, 2017, 17:18 [IST]
Please Wait while comments are loading...

Latest Photos