शहरी भारत की पहली पंसद डैटसन रेडी-गो के सफलता की पूरी कहानी

Written By: Shashikant

जापानी कार मेकर डैटसन ने 7 जून 2016 को अपनी कार रेडी गो को लांच किया। इसी के साथ अपनी जबर्दस्त माइलेज और कई शानदार फीचर्स की बदौलत ये कार देश भर में लोगों की पसंद बन गई। यह कार भारत की पहली ऐसी कार है जिसे शहरों में खासा पसंद किया गया।

इसी एक्‍स-शोरूम कीमत मात्र 2.38 लाख (दिल्‍ली) है। दिन-ब-दिन इसकी ब्रिकी बढ़ती ही जा रही है। नई रेडी गो ने यह साबित कर दिया है कि वो शहरी और ग्रामीण भारत में तेजी से पंसद होने वाली कार बन चुकी है। तो आईए आपको डै‍टसन रेडी गो की खासियत बताते हैं जो उसे अन्‍य अर्बन कारों से खास बनाता है।

शहरी भारत की पहली पंसद डैटसन रेडी-गो के सफलता की पूरी कहानी

जी हां रेडी गो आपको 5 साल की वारंटी देती है चाहें आप कितने भी किमी. चला चुके हों। भारत में ऐसी सुविधा कोई भी कार मेकर कंपनी नहीं देती। इसके अलावा डैटसन रेडी गो का दावा है कि वो अपने ग्राहकों को सबसे कम कीमत पर कार मुहैया कराते हैं जबकि उनके प्रतिद्वंदी इसकी कीमत से 32 प्रतिशत ज्‍यादा कीमत पर कार बेच रहे हैं।

शहरी भारत की पहली पंसद डैटसन रेडी-गो के सफलता की पूरी कहानी

डैटसन रेडी गो की माइलेज 25.17 किमी प्रति लीटर है। हालांकि रेनो की क्‍विड की भी माइलेज इतनी ही है लेकिन अबतक माइलेज के लिए जाने जानी वाली अल्‍टो 800 को इसने पीछे छोड़ दिया है। आपको बता दें कि अल्‍टो 800 की माइलेज 24.9 किमी प्रति लीटर है। भारत में रेडी गो के सफलता की सबसे बड़ी वजह माइलेज ही है।

शहरी भारत की पहली पंसद डैटसन रेडी-गो के सफलता की पूरी कहानी

रेडी गो को भारतीय सड़कों के हिसाब से खास तरीके से तैयार किया गया है। जमीन से इसकी 185 mm है जो खराब सड़कों पर भी सरपट दौड़ सकती है। एक बार फिर इस मामले में रेडी गो अपने प्रतिद्वंदियों रेनो और मारूति से आगे निकल जाती है।

शहरी भारत की पहली पंसद डैटसन रेडी-गो के सफलता की पूरी कहानी

डिजाइन की बात करें तो डैटसन ने रेडी गो में डेटाइम रनिंग लाइट्स का प्रयोग किया है। इन सब फर्स्‍ट क्‍लास फीचर के साथ डैटसन रेडी गो असानी से बजट में आ जाने वाली हैचबैक कार है। डेटाइम रनिंग लाइट्स का प्रयोग उन कारों में किया जाता है जो खासा महंगे होते हैं।

शहरी भारत की पहली पंसद डैटसन रेडी-गो के सफलता की पूरी कहानी

अपने आकर्षक फीचर्स के चलते डैटसन गो को भारत में खासा पंसद किया जा रहा है। कंपनी ने कार की डिमांड को देखते हुए कई शहरों में मास डिलेवरी का तरीका अपनाया है।

शहरी भारत की पहली पंसद डैटसन रेडी-गो के सफलता की पूरी कहानी

मास डिलेवरी को लेकर हैदराबाद में आयोजित एक कार्यक्रम में बैंडमिंटन स्‍टार और रियो ओलंपिक में सिल्‍वर मेडल जीतने वाली पीवी सिंधू शामिल हुईं।

शहरी भारत की पहली पंसद डैटसन रेडी-गो के सफलता की पूरी कहानी

रेडी गो के बढ़ते डिमांड के चलते 29 सितंबर 2016 को कंपनी ने इसका एक स्‍पेशल एडिशन लांच किया। जिसका नाम रेडी गो स्‍पोटर्स है। इस कार की लॉचिंग में साक्षी मलिक शामिल हुईं थीं। इसके अलावा रियो ओलंपिक में मेडल जीतने के चलते उन्‍हें रेडी गो स्‍पोटर्स की पहली चाभी सौंपी गई। साक्षी मलिक को रेडी गो स्‍पोटर्स का ब्रांड एंबेसडर भी बनाया गया।

शहरी भारत की पहली पंसद डैटसन रेडी-गो के सफलता की पूरी कहानी

कार पर काले रंग की पट्टियों से बाहरी साजसज्जा कर उसे स्पोर्टी और डायनमिक लुक दिया गया है। कार की ग्रिल बिल्‍कुल मधुमक्‍खी के छत्‍ते की तरह है जिसे हनीकौंब ग्रील कहते हैं। ग्रील बिल्‍कुल चमकीले लाल रंग से रंगा गया है।

चमकीले लाल रंग का प्रयोग पहियो के पास भी किया गया जो बेहद आकर्षक दिखते हैं। इसी रंग का प्रयोग कार के इंटीरियर्स में भी किया गया है जो स्‍पोटर्स लुक देता है। इन सबके अलावा कार को स्‍पोर्ट्स लुक देने के लिए जो कुछ खास बदलावा किए गये हैं उनमें कार के आगे का हिस्सा और पीछे की तरफ बम्पर शामिल हैं। इन दोनों हिस्‍सों को काले रंग के कवर से ढका गया है।

शहरी भारत की पहली पंसद डैटसन रेडी-गो के सफलता की पूरी कहानी

रेडी-गो स्‍पोर्ट में कीलेस एंट्री, रियर पार्किंग सेंसर्स, ऑल ब्लैक इंटीरियर्स एंड ब्लैक वील्ज़ जैसे फीचर शामिल हैं। इंजन में कोई बदलाव नहीं किया गया है। 799 CC का इंजन 54 bhp की पावर देता है और कंपनी का दावा है कि माइलेज (ARAI) 25.17 kmpl देगी।

शहरी भारत की पहली पंसद डैटसन रेडी-गो के सफलता की पूरी कहानी

रेडी गो स्‍पोटर्स के इस स्‍पेशल एडिशन की मांग ग्राहकों में खूब बढ़ी और सभी लिमिटेड कार लॉन्‍च होने के कुछ ही दिनों में बिक गईं। ग्राहकों की बढ़ती मांग को देखते हुए डैटसन को और कारों को निर्माण करना पड़ा।

शहरी भारत की पहली पंसद डैटसन रेडी-गो के सफलता की पूरी कहानी

अभी हाल ही में डैटसन की ओर से ‘डैटसन लव कांटेस्ट रखा गया था, जिसमें कई लोगों ने हिस्सा लिया था।

शहरी भारत की पहली पंसद डैटसन रेडी-गो के सफलता की पूरी कहानी

इस कांटेस्‍ट को दिल्‍ली के विशाल वत्‍स ने जीता था। विशाल ने डैटसन पर भरोसा जताया था और वो इसी कार से लेह जैसे दुर्गम जगहों पर भी ड्राइव करके गए थे। विजेता विशाल को जापान ट्रिप पर भेजा गया था।

शहरी भारत की पहली पंसद डैटसन रेडी-गो के सफलता की पूरी कहानी

डैटसन रेडी-गो को देश की बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी स्‍नैपडील के जरि‍ए ऑनलाइन भी बुक कर सकते हैं।

शहरी भारत की पहली पंसद डैटसन रेडी-गो के सफलता की पूरी कहानी

जो लोग स्‍नैपडील के माध्‍यम से कार बुक करना नहीं चाहते वो भी ऑनलाइन कार बुक कर सकते हैं। इसके लिए गूगल प्‍ले स्‍टोर पर डैटसन ऐप डाउनलोड करना होगा। या फिर आप सीधे-सीधे www.datsun.co.in पर जाकर भी कार बुक सकते हैं।

नोटबंदी के बाद डैटसन ने कैशलेस ट्रांजेक्‍शन को बढ़ावा देते हुए ऑनलाइन बुकिंग को बेहद सहज बनाया है। कंपनी ने उन लोगों का खासा ध्‍यान रखा है जो 2/3 टायर शहरों में रहते हैं।

शहरी भारत की पहली पंसद डैटसन रेडी-गो के सफलता की पूरी कहानी

जबसे डैटसन ने भारत में एंट्री ( साल 2014) किया है तबसे कंपनी ने रूस, इंडोनेशिया, दक्षिण अफ्रीका, नेपाल, श्रीलंका और लेबनान जैसे 14 देशों में अपना करोबार फैला लिया है और पिछले 2.5 सालों में सात करें बाजार में उतार चुकी है।

वास्‍तव में रेडी गो के लॉन्‍च होने के बाद डैटसन की बिक्री में 200 फीसदी का इजाफा हुआ है। यह भारत सहित पूरी दुनिया में B-सेगमेंट कारों में एक रिकॉर्ड है।

Read more on #दैटसन #datsun
English summary
Datsun's redi-Go hatchback has proved to be a success story for the Japanese carmaker. Click for the reasons behind the story of success.
Story first published: Tuesday, January 17, 2017, 18:26 [IST]
Please Wait while comments are loading...

Latest Photos