बैटरी इंजीनियरिंग सेंटर के लिए अशोक लेलैंड और आईआईटी मद्रास आए साथ

Written By:

अशोक लेलैंड और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटी मद्रास) ने 1 अगस्त, 2017 को आईआईटी मद्रास में केंद्र की बैटरी इंजीनियरिंग (कोबीई) को प्रायोजित करने के लिए समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए है।

बैटरी इंजीनियरिंग सेंटर के लिए अशोक लेलैंड और आईआईटी मद्रास आए साथ

सीबीई, वर्तमान में वैश्विक खिलाड़ियों के बीच भी विभिन्न बैटरी विशेषताओं का अध्ययन करने के लिए उद्योग और शोधकर्ताओं के बीच सहयोग को सुविधाजनक बनाने के द्वारा चल रहे शोध को सहायता करेगा।

बैटरी इंजीनियरिंग सेंटर के लिए अशोक लेलैंड और आईआईटी मद्रास आए साथ

उद्योग के लीडर और नवाचारों के साथ काम करने का आईआईटी मद्रास का उत्कृष्ट ट्रैक रिकॉर्ड है। जहां अशोक लेलैंड भी अगले कुछ सालों में कोबे के साथ निजी परामर्श अनुसंधान परियोजनाओं पर उचित मात्रा में काम करने के लिए उत्सुक है।

बैटरी इंजीनियरिंग सेंटर के लिए अशोक लेलैंड और आईआईटी मद्रास आए साथ

इसके अलावा, सीईबीई इलेक्ट्रिकल बैटरियों की पूरी सीरीज में एक समग्र सहयोग मॉडल विकसित करने के लिए विभिन्न उद्योग भागीदारों के साथ तालमेल समन्वय करने में एक प्रमुख भूमिका निभाएगा। इस साझेदारी के माध्यम से, अशोक लेलैंड का लक्ष्य राष्ट्रीय स्तर पर EV पारिस्थितिक तंत्र का समर्थन करना है।

बैटरी इंजीनियरिंग सेंटर के लिए अशोक लेलैंड और आईआईटी मद्रास आए साथ

अशोक लेलैंड के प्रमुख इलेक्ट्रिक वाहन और ई-मोबिलिटी सॉल्यूशंस कार्तिक अथनाथनाथन ने कहा कि बैटरी इंजीनियरिंग में इस पहल के साथ, हम विद्युत गतिशीलता के संबंध में भारत के आक्रामक रुप में प्रतिभागी बनना चाहते हैं।"

बैटरी इंजीनियरिंग सेंटर के लिए अशोक लेलैंड और आईआईटी मद्रास आए साथ

आईआईटी मद्रास के निदेशक, भास्कर राममूर्ति ने कहा कि आईआईटी मद्रास में लंबी अवधि के समर्थन और कोबई के साथ मिलकर, अशोक लेलैंड भारत की भविष्य की ऊर्जा और परिवहन आवश्यकताओं के लिए इस महत्वपूर्ण तकनीक में महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है।

DriveSpark की राय

DriveSpark की राय

भारत सरकार 2030 तक सभी-इलेक्ट्रिक वाहनों में बदलाव करने की योजना बना रही है। इसलिए, यह साझेदारी इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए बैटरी विकसित करने में महत्वपूर्ण है। अशोक लेलैंड एक इलेक्ट्रिक बस पर भी काम कर रहा है, और उम्मीद है नई बैटरी तकनीक ऑटोमेकर के लिए उपयोगी होगी।

English summary
Ashok Leyland and Indian Institute of Technology Madras (IIT Madras) signed a Memorandum of Understanding (MOU), on August 19, 2017, to sponsor the Centre of Battery Engineering (CoBE) at IIT Madras.
Story first published: Wednesday, August 23, 2017, 10:24 [IST]
 
X

ड्राइवस्पार्क से तुंरत ऑटो अपडेट प्राप्त करें - Hindi Drivespark

We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Drivespark sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Drivespark website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more