2016 वित्‍त वर्ष में पेट्रोल, डीजल की डिमांड पहुंची 20 सालों के सर्वोच्‍च स्‍तर पर !

Written By:

भारत में वित्त वर्ष 2015-16 के दौरान ईंधन की डिमांड 11 फीसदी बढ़ी हुई दर्ज हुई है। बीते दो दशकों में यह सबसे ज्यादा है।

पढ़ें - डैटसन रेडिगो कार का वर्ल्‍ड प्रीमियर पर भारत में हुआ ग्‍लोबल डेब्‍यू, जून में हो सकती है लॉन्‍च

2015 वित्त वर्ष की समाप्ति तक भारत में 165.5 मिलियन टन ईंधन की खपत दर्ज हुई थी। जबकि इस साल यह बढ़कर 183.3 मिलियन टन हो गई। आंकड़ों के हिसाब से इस बार पिछले साल के मुकाबले 10.3 फीसदी ग्रोथ दर्ज की गई है। ये आंकड़े हाल ही हमें आॅयल मिनिस्ट्री ने जारी किए हैं।

अागे और बढ़ेगी डिमांड

बात अगर केवल मार्च 2016 की करें तो इस महीने ईंधन की ब्रिकी 16.42 पर्सेंट से बढ़कर 17.09 टन हो गया। यह मार्च 2015 के 14.67 मिलियन टन तेल के मुकाबले काफी ज्यादा है। इंडियन आॅयल कॉर्पोरेशन की मानें तो आगामी वित्त वर्ष में पेट्रोल की डिमांड 11 फीसदी तक बढ़ सकती है। साथ ही डीजल की डिमांड में भी 4 फीसदी का इजाफा देखा जा सकता है।

ड्राइवस्‍पार्क के ट्रेंडिंग आर्टिकल पढ़ें -

Click to compare, buy, and renew Car Insurance online

Buy InsuranceBuy Now

Read more on #ऑफ बीट
English summary
India's fuel demand has seen an increase of 11 percent during the Financial Year of 2015-16. This is the fastest growth seen in the past two decades.
Please Wait while comments are loading...
यूपी चुनाव: सपा-कांग्रेस के साथ महागठबंधन में शामिल नहीं होगी आरएलडी
यूपी चुनाव: सपा-कांग्रेस के साथ महागठबंधन में शामिल नहीं होगी आरएलडी
पत्नी ने व्‍हाट्सएप पर शेयर किया नपुंसक पति का 'राज', हत्या के बाद खुदकुशी
पत्नी ने व्‍हाट्सएप पर शेयर किया नपुंसक पति का 'राज', हत्या के बाद खुदकुशी