कार रिव्यूः कायेन और मैकन के साथ करें खतरनाक रास्तों की आसान सवारी

Written By:

15 साल पहले, पोर्श ने अपनी पहली एसयूवी का वैश्विक रूप से तोहफा देकर अपने प्रशंसकों को खुश करने वाली कम्पनी ने अब अपने प्रशंसकों को कैयेने और मकान का तोहफा दिया है। भारत में पोर्श बैज की लॉन्चिंग के बाद यह दूसरी एसयूवी है। लेकिन अब जो दो नई एसयूवी आई वह दोनों भारतीय चालकों के लिए शानदार होने वाली है।

आपको बता दें कि कैयेने को शक्ति देने वाला एक 3.0-लीटर टर्बो डीजल इंजन है जो 242 बीपीपी और 550 एनएम टॉर्क का उत्पादन करता है जबकि मकान एक 2.0-लीटर टर्बोचार्ज्ड पेट्रोल इंजन का इस्तेमाल 248.5bhp और 350Nm टॉर्क का उत्पादन करने में सक्षम है।

दोनों एसयूवी सक्रिय व्हील ड्राइव सिस्टम और फीचर और ऑफ़-रोड मोड को सक्रिय करते हैं। एक बटन (मकान) दबाकर या स्विच (कैयेने) को दबाकर सक्रिय किया जा सकता है। गाड़ियों के एयर संस्पेशन 40 एमएम तक करके दोनों एसयूवी की सवारी की ऊंचाई बढ़ाई जा सकती है।

पॉर्श टोकक वेक्टर प्लस और पोर्श स्थिरता प्रबंधन (पीएसएम) ऑफ-रोड उपयोग के लिए अपने सेटअप को भी अनुकूल करते हैं। इसके अलावा यदि आवश्यक हो पोर्श ट्रैक्शन मैनेजमेंट (पीटीएम) सिस्टम टॉर्क के 100 प्रतिशत तक एक्सल को भेज सकता है ।

कैयेने और मकान को चुनौती देने वाली पहली बाधा एक चट्टानी ढलान के रूप में आई थी। लेकिन ये एसयूवी बिना परेशानी के पार कर गईं। हालांकि यहां पर इसका अर्थ यह नहीं है कि गाड़ियां पत्थरों से टकराते हुए निकल गईं। इसका अर्थ है यहां कारें पथरीले राहों पर आराम से गुजरते हुए निकल गईं।

ये कारें चढ़ाई हो या फिर उतराई हर कहीं कमाल करती हुई आगे बढ़ गई। दरअसल मकान और कायेन खड़ी झुकने के बावजूद स्थिर रहती हैं। इनकी जोरदार पेडल और जोड़ी इसे दुनिया की शानदार एसयूवीज में एक बनाती हैं।

चलाने पर मालूम पड़ा कि ये गाड़ियां एक पतली ट्रैक पर आगे निकल जाती है, लेकिन यह किसी भी नियमित कार के लिए मुश्किल है, क्योंकि उसे एक्सल ब्रेकर पर निर्भर रहना पड़ेगा।

आगे की चुनौतियों की सीरीज में एक ओर 30 डिग्री ढलान के साथ एक तरफा झुकाव, जो अंदर इंसानों के लिए असुविधाजनक पोर्श एसयूवी के लिए परेशान नहीं हुई। कैयेने और मकान यहां पर भी घर्षण और घुमाव पर खरा उतरा है।

पॉर्श हिल कंट्रोल, जो सभी चार पहियों ब्रेकिंग द्वारा गति को सीमित करता है और पहिया लॉक को रोकने के लिए लगाए गए एबीएस को रखता है। इस प्रणाली के साथ, ये एसयूवीज भी शानदार है।

बाद में एक छोटे से स्प्रिंट और तोड़ने के सत्र में एसयूवी ने एक सीरीज में प्रवेश किया। हालांकि यहां जल का स्तर कम था, ट्रैक पर फिसलन थी। लेकिन गाड़ी यहां भी आगे निकल गई। हां कीचड़ से सन जरूर गया लेकिन वह एक सामान्य घटना थी।

डेनियस जेम्स की राय

पोर्श में अपनी गर्दन डालने के लिए आप भले हंस सकते हैं लेकिन इस कम्पनी की कैयेने और मकान दोनों अंदर से बहुत शानदार हैं। कायेन की ऑफ-रोड क्षमता अद्भूत है। यह इन एसयूवीज को स्पोर्ट से अलग बनाती है।

मकान ने भी (78.97 लाख एक्स-शोरूम बेंगलुरु)खुद को कठिन इलाके में अपने आप को साबित करके दिखाया। कैयेने डीजल (1.1 करोड़ रूपए के एक्स-शोरूम बैंगलोर) है, जो वास्तव में आपको झटका देती है। लेकिन इसकी लक्जरियस पर आप अंगुली नहीं उठा सकते हैं।

Read more on #porsche
Story first published: Wednesday, June 14, 2017, 18:33 [IST]
English summary
in India, the Cayenne and Macan are treated as a pair of glass slippers. Whether it's the Porsche badge or the price tag, owners don't seem to like taking the luxury SUV duo from Stuttgart off-road.
Please Wait while comments are loading...
बिहार बोर्ड की 10वीं परीक्षा का रिजल्ट 22 जून को, इस वेबसाइट पर देखिए
बिहार बोर्ड की 10वीं परीक्षा का रिजल्ट 22 जून को, इस वेबसाइट पर देखिए
मुसलमान और ईसाइयों को लेकर ये थी रामनाथ कोविंद की सोच, 2010 का बयान
मुसलमान और ईसाइयों को लेकर ये थी रामनाथ कोविंद की सोच, 2010 का बयान

Latest Photos